Tuesday, December 30, 2008

आया नव वर्ष आया


आया नव वर्ष ,आया आपके द्वार
दे रहा है ये दस्तक , बार बार !

बीते बरस की बातों को , दे बिसार
लेकर आया है ये , खुशियाँ और प्यार !
खुले बाहों से स्वागत कर ,इसका यार
और मान ,अपने ईश्वर का आभार !

आओ , कुछ नया संकल्प करें यार
मिटायें ,आपसी बैर ,भेदभाव ,यार !
लोगो में बाटें ,दोस्ती का उपहार
और दिलो में भरे , बस प्यार ही प्यार !

अपने घर, समाज, और देश से करें प्यार
हम सब एक है , ये दुनिया को बता दे यार !
कोई नया हूनर ,आओ सीखें यार
जमाने को बता दे , हम क्या है यार !

आप सबको ,है विजय का प्यारा सा नमस्कार
नव वर्ष मंगलमय हो ,यही है मेरी कामना यार !

आया नव वर्ष ,आया आपके द्वार
दे रहा है ये दस्तक , बार बार !


Monday, December 29, 2008

मेरे blogger दोस्तों , ये आपकी दोस्ती के लिए ..


दोस्तों , मुझे सिर्फ़ दो महीने हुए है इस blogging की दुनिया में आए हुए .. और आप लोगो ने इतना प्यार दिया है की बस पूछो मत .... आपके comments मुझे निरंतर ,और बेहतर लिखने की प्रेरणा देतें है ... 2008 में मैंने करीब 50 poems लिखी ; जिसमें से करीब 45 poems मैंने सिर्फ़ November और December में ही लिखी , और ये सम्भव हो सका है , सिर्फ़ आपके प्यार भरे comments के कारण . मैं अपने 10-12 घंटे के busy job में से कुछ समय निकल कर ये नज्में लिख लेता हूँ ... मैं ये सोचता हूँ की आप bloggers भी अब मेरा एक नया परिवार बन गया है .... मैं ,आप सब को तहे दिल से धन्यवाद् देता हूँ ,और आपसे प्रार्थना करता हूँ की ,आप यूँ ही मेरी poems को पढ़कर ,मेरी हौसला अफजाई करते रहे ... मैंने ये दोस्ती की poem कल लिखी ,सिर्फ़ आप blogger दोस्तों के लिए ... पढिंयेंगा; और हमेशा की तरह मुझे अपना स्नेह दीजियेगा ....

दोस्तों ,मुझे कभी भी भूल न जाना;
अपना स्नेह प्यार यूँ ही देते जाना .

दोस्ती , दिल के अंधेरो को दूर करे ,वो रोशनी है ..
और जीने की कड़वाहट मिटायें ,वो चासनी है .

दोस्ती ,ज़िन्दगी की ख्वाहिशों से भरा खजाना है .
दोस्ती , शानदार खवाबो से खूबसूरत नजराना है ..

दोस्ती से बेहतर कोई शराब नही यारो ....
दोस्ती से बढकर हसीं ख्वाब नही यारो ;

दोस्ती से बढकर कोई रिश्ता नही ...
दोस्ती से बढकर कोई जज्बा नही

दोस्ती , वफ़ा की बेहतरीन मिसाल है ,
दोस्ती , ज़िन्दगी का ताज़ा ख़याल है ..

अगर वक्त मिले तो दोस्त बनाओ यारो..
इस से बेहतर कोई और काम नही यारो.....


आपका दोस्त
विजय

Friday, December 26, 2008

अफसाना


यूँ ही एक दिन ,किसी जनम
उससे मुलाखात हुई ;
फिर कुछ बातें हुई ;
और मोहब्बत हो गयी !

फिर,
कुछ जनम साथ चलने के बाद ;
दोनों जुदा हो गए !!

और क्या ......
मोहब्बत के अफ़साने ; बस ऐसे ही होते है ......

बता तो जरा ,
क्या मेरा अफसाना ऐसा नही ,
या तेरा अफसाना ऐसा नही ....

Wednesday, December 24, 2008

मुदद्त


आज मुझे तुम अचानक ही दिख गई
कई बरस बाद.....

एक मुददत के बाद .........

यूँ लगा कि जैसे आकाश में
मेघ घुमड़ घुमड़ कर नाचे हो !
यूँ लगा कि बड़े दिनों बाद ,
मनभरी बारिश हुई हो !
यूँ लगा कि जैसे मैंने तुम्हे
पहली बार देखा हो ...!

तुम्हे याद है ....वो दिन ...
ऐसे ही किसी मोड़ पर तुमने ;
मुझे मुस्करा कर देखा था ...

वो सारी रात मैंने अपने दोस्तों के साथ जाग कर बितायी थी ...
रात भर हमने सिर्फ़ तुम्हारे बारें में ही बातें की थी....
दोस्त सारी रात मुझे तेरे नाम से छेड़ते रहे थे ...
और मैं ,अपने आँखों में तेरे ख्वाब सज़ा रहा था.....

सच , खुशियाँ भी कितनी अच्छी होती है ...

तुमने ....शायद उस दिन भी हरे रंग का कुर्ता पहना था...
तुम्हारा वो उड़ता हुआ दुपट्टा ;
क्या कहूँ ... मैंने अपने आपको उसमे ओढ़ लिया था ..

उस दिन के बाद , कितने सारे दिन ,
यूँ ही हम दोनों ने ;
ख्वाबों का आशियाँ बनाते सजाते ,
ज़िन्दगी के सपनो को दिल से जिया था ....

प्यार !
सच में ज़िन्दगी को जीने के काबिल बना लेता है ..
मैं , तेरे लिए दुनिया सजाने , दुनिया में निकल पड़ा ...
ज़िन्दगी की उम्र को जैसे पंख लग गए हो...

फिर , बड़े बरसो बाद ,मैं जब तुझसे मिला
तेरे लिए बनी हुई ज़िन्दगी की सजावट को लेकर ;
तो तुम्हे किसी दुसरे रंग में देखा था ..
मेरी पानी से भरी धुंधलाती हुई आँखों को
आज तक तेरा वो लाल रंग याद है ...

ज़िन्दगी के मायने अलग है !

एक बार फिर ; मैं सारी रात दोस्तों के साथ था ..
फिर, रात भर हमने सिर्फ़ तुम्हारे बारें में ही बातें की थी....
दोस्तों ने कहा , तुझे भूल जाएँ !
कोई तुम्हे ; कैसे भूल जाएँ !

और मैं ,
जिस ज़िन्दगी को सजाने निकला था ,
उसी ज़िन्दगी की अर्थी को अपने कंधो पर लादकर चल पड़ा....

लेकिन ,सच में ;
आज , तुझे देख कर
बड़ा सकून मिला....
तुम कितनी खुश थी.....
मुझे बड़ी मुदद्त के बाद तेरी खुशी देखने को मिली...!!!

लेकिन ,
मुझे देख कर तुम रो क्यों पड़ी ?


Tuesday, December 23, 2008

कोई एक पल

कोई एक पल

कभी कभी यूँ ही मैं ,
अपनी ज़िन्दगी के बेशुमार
कमरों से गुजरती हुई ,
अचानक ही ठहर जाती हूँ ,
जब कोई एक पल , मुझे
तेरी याद दिला जाता है !!!

उस पल में कोई हवा बसंती ,
गुजरे हुए बरसो की याद ले आती है


जहाँ सरसों के खेतों की
मस्त बयार होती है
जहाँ बैशाखी की रात के
जलसों की अंगार होती है

और उस पार खड़े ,
तेरी आंखों में मेरे लिए प्यार होता है
और धीमे धीमे बढता हुआ ,
मेरा इकरार होता है !!!

उस पल में कोई सर्द हवा का झोंका
तेरे हाथो का असर मेरी जुल्फों में कर जाता है ,
और तेरे होठों का असर मेरे चेहरे पर कर जाता है ,
और मैं शर्माकर तेरे सीने में छूप जाती हूँ ......

यूँ ही कुछ ऐसे रूककर ; बीते हुए ,
आँखों के पानी में ठहरे हुए ;
दिल की बर्फ में जमे हुए ;
प्यार की आग में जलते हुए ...
सपने मुझे अपनी बाहों में बुलाते है !!!

पर मैं और मेरी जिंदगी तो ;
कुछ दुसरे कमरों में भटकती है !

अचानक ही यादो के झोंके
मुझे तुझसे मिला देते है .....
और एक पल में मुझे
कई सदियों की खुशी दे जाते है ...

काश
इन पलो की उम्र ;
सौ बरस की होती ................




Monday, December 22, 2008

पूरे चाँद की रात


आज फिर पूरे चाँद की रात है ;
और साथ में बहुत से अनजाने तारे भी है...
और कुछ बैचेन से बादल भी है ..

इन्हे देख रहा हूँ और तुम्हे याद करता हूँ..

खुदा जाने ;
तुम इस वक्त क्या कर रही होंगी…..

खुदा जाने ;
तुम्हे अब मेरा नाम भी याद है या नही..

आज फिर पूरे चाँद की रात है !!!

कुछ महान कार्य - इन्हे अवश्य आजमायें

दोस्तों ,ज़िन्दगी की आपाधापी में अगर आपको कुछ आनंद चाहिए तो इन्हे अवश्य आजमायें .और मुझे अवश्य बताये कि क्या ये great ideas कैसे है ?

[१] स्कूटर कि डिक्की में दो स्टील के ग्लास और एक थाली , थोड़ा सा सेव - चिवडा , एक पानी की bottle , और एक अपना मनपसंद पौव्वा ..... लेकर अपने अजीज दोस्त के साथ , शहर को बाहर जाती हुई सड़क पकड़ ले .. १५-२० KM जाने के बाद , मैदान और खेत दिखेंगे .. वहां भीतर चले जाएँ और दोनों दोस्त बैठकर " मित्रां दी मेला करे, तुम्बा तुम्बा दारु पिए , और झूम झूम भांगडा करें ............"

[२] दोस्तों के साथ बैठकर कंठ तक पिये , लडाई झगडा करें ,गाली गलोज करे.. और दूसरे दिन कहे.. " यार , साले ,कल कुछ ज्यादा हो गई थी . चल बे , आज फिर वही मिलते है रात को ......"

[३] दोस्त की शादी में " नाग - सपेरे " का और "पतंग बाज़ी " का dance करे [ पहले दो घूँट जरुर लगा ले ]

[ ४] गर्मी के दिनों में घर की छत पर या घर के आँगन में निवाड वाली खटिया डाले ,उस पर नरम चादर डाले , मच्छर अगरबत्ती जलाएं , portable radio on करें , विविधभारती में छायागीत लगाए, पुराने गाने सुनते सुनते सुहानी नींद में सो जाए...

[५] खुली वाली जीप में दोस्तों के साथ बैठे , खूब जोरो से music बजाये , ट्रैफिक वाले का चालान भरे .. २ km चुप चाप चले , फिर तेज़ music play करें , फिर चालान भरे .. फिर २ km चले , और देखे की कौन सा दोस्त पहले बोलता है की " यार जरा आवाज बढाओ बे ... " उसकी धुलाई कर दे ...

[ ६] सारे दोस्त मिलकर एक सिगरेट जला ले , बारी बारी कश ले ... जो दोस्त सिंगल कश में डबल कश ले , उसकी धुलाई कर दे...

[ ७] सारे दोस्त मिले और बैठकर , 10th class की कोई लड़की की याद करें और किसी दोस्त का नाम लेकर जोर से ठठाकर हँसे ...

[८ ] यूँ ही दोस्त मिलकर पागलो की तरह हँसे .. एक दूसरे के गंजे सर , बड़ी हुई तोंद और आते हुए बुढापा को लेकर भद्दे मजाक करे और हँसे ...

[९] कुछ दोस्त मिल जाएँ , एक सस्ता सा guitar और डफली ख़रीदे.. और एक beach पर जाएँ , वहां पर टॉवेल बिछाएं और काले चश्में पहन कर एक बाटली के साथ बैठ जाएँ .. [ बाटली की choices - पानी , कोल्ड ड्रिंक , देसी दारु, कच्ची दारु, महुए की दारु, व्हिस्की, रम , जिन, बियर, या इन सब का मिश्रण ] दो -तीन घूँट भीतर जाने के बाद आप ऐसा guitar और डफली बजायेंगे की बस पूछिए मत.. थोड़े देर के बार आस पास कुछ लोग जमा हो जाएँ तो एक दोस्त टोपी उलटी कर के सबसे पैसे मांग ले .. [ अब चूंकि वहां कोई आपको जानता नही है , इसलिए पैसे मांगने में कोई हर्ज़ नही है ] शाम को उन्ही पैसे से आपकी रात गुलज़ार हो जाएँगी .. दो चार दिन अलग अलग beches में ये आजमाते रहिये .. हो सकता है आपको कोई band या rock group अल्बम के लिए offer कर दे......

[१०] कुछ दोस्त मिल कर horror movie देखने जाएँ , रात का आखरी शो. !! जब भी भूत आयें तो सीट के नीचे मुंह डाल कर अजीब आवाजे निकाले , इस से आपका डर भाग जायेगा और बाकि दर्शको को और डर लगेंगा .

[ ११] कभी कभी साइकिल पर यूँ ही डोलते डोलते , नुक्कड़ तक चले जाईयें , वहां किसी ठेले पर खड़े हो कर कप और बस्सी में चाय पीजिये और ५ रुपये के समोसे खाईये और फिर साइकिल पर डोलते डोलते अपने घर आ जाईये ...

[ १२ ] तन्खवाह की तारीख के पाँचवे दिन , काम से लौटते हुए शहर के किसी अनजाने बार में अकेले चले जाईये , किसी कोने वाली मेज़-कुर्सी पर चले जाईये , वहां बैठकर पहले अपना मोबाइल switch off करें , जूतों को खोलिए .. , शर्ट की कुछ बटने खोल दीजिये , और सबसे बेहतरीन व्हिस्की को सोडे के साथ आर्डर करिए.. साथ में फिश फ्राय या काजू फ्राय मंगा लीजिये . और सिर्फ़ दो पैग पीजिये - दो घंटे में ... न ज्यादा न कम !!!!... और फिर गाने सुनते हुए घर आ जाईये ...

[ १३ ] किसी नदी या नहर के पास चले जाईये . किनारे बैठेये .अपना मोबाइल switch off करें , जूतों को खोलिए .. पैंट को घुटनों तक उठाकर , पैरों को पानी में डाल दीजिये , बहते पानी के साथ अपनी यादों को भी साथ ले आईये .. थोडी देर बाद , अपनी आँखों में ठहरे आंसुओं को पोछें फिर अपने घर चले आईये ..

[ १४ ] कभी कभी रातों को उठ कर किसी पुराने दोस्त को फ़ोन करिए

[ १५ ] स्कूल बस में बैठे बच्चो को देखकर हाथ हिलाएं

[ १६ ] जो कुछ भी आपको मिला है , उसमे ही खुशी ढूँढिये ....

[ १७ ] कुछ यादों को कभी भी नही भूले ..

[ १८ ] इस दुनिया में बहुत कम “अच्छा “ है , आप की जरुरत है इस दुनिया को .. कुछ अच्छा कर जाएँ ...

[ १९ ] ईश्वर को न भूले. उससे और अपने आप से अवश्य डरें ... क्योंकि अक्सर "circle of life " repeat होता है ..

[20 ] और अब ; अपने सारें दोस्तों को ये sms करें " तबियत ठीक नही लग रही थी ...एक तांत्रिक को दिखाया ..तांत्रिक बोला की , भूत का साया है , किसी घोर पापी को sms करों , ठीक हो जओंगे... !!! तुझे sms भेजा है , अब अच्छा महसूस कर रहा हूँ ....... "


May God bless you all.

Saturday, December 20, 2008

सफर


मेरे दोस्त , तय करना है ज़िन्दगी का ये सफर
कभी रोकर और कभी हंसकर ;
बनना न कायर तुम इस से डरकर ,
क्योंकि तय करना है , ज़िन्दगी का ये सफर ;

मिलेंगे साथी कई , हर एक मोड़ पर,
परेशान न हो , कभी पाकर तो कभी खोकर ,
पर किसी न किसी को बनाना जरुर हमसफ़र ,
क्योंकि तय करना है , ज़िन्दगी का ये सफर ;

ऐसा भी होता है, ,कभी कभी मेरे दिलबर ,
कि , आता है , रोना टूटी हुई चाहत पर
पर पथिक बढ़ना है आगे ; तुझे सबकुछ भुलाकर
क्योंकि तय करना है , ज़िन्दगी का ये सफर ;

पागल न होना ,कभी हसीन फूलो को पाकर ,
और चलना न कभी कांटो से दामन बचाकर
कभी - कभी सोना भी पड़ता है काँटों की सेज पर
क्योंकि तय करना है , ज़िन्दगी का ये सफर ;

यूँ तो जीने को जीतें है सब पर,
दिखाओ तो कुछ हिस्सा दूसरो के लिए जीकर
पर जियो न ज़िन्दगी , बार बार मरकर
क्योंकि तय करना है , ज़िन्दगी का ये सफर ;

हाँ तुझे ही तय करना है तेरे ज़िन्दगी का सफर ...
इसलिए मुस्कराते हुए तय कर अपनी ज़िन्दगी का सफर ..
कुछ ऐसा कर जा दोस्त , बन जाए तेरा ये एक महान सफर
कि , आने वाले दिनों में लोग कहे ,
क्या शानदार जिया है इसने अपना ये सफर........

Monday, December 15, 2008

अलविदा



सोचता हूँ
जिन लम्हों को ;
हमने एक दूसरे के नाम किया है
शायद वही जिंदगी थी !

भले ही वो ख्यालों में हो ,
या फिर अनजान ख्वाबो में ..
या यूँ ही कभी बातें करते हुए ..
या फिर अपने अपने अक्स को ;
एक दूजे में देखते हुए हो ....

पर कुछ पल जो तुने मेरे नाम किये थे...
उनके लिए मैं तेरा शुक्रगुजार हूँ !!

उन्ही लम्हों को ;
मैं अपने वीरान सीने में रख ;
मैं ;
तुझसे ,
अलविदा कहता हूँ ......!!!

अलविदा !!!!!!


विजय @ jog falls - Hubli ,Karnataka - 05.08.12


सर्द होठों का कफ़न


तुम्हे याद है , जिस जन्म ;

हम जुदा हुए थे !
उस पल में ,
हमने एक दूजे की आँखों में ;
एक उम्र डाल दी थी ..
और होठों से कुछ नही कहा था !

उस पल में सदियों का दर्द ठहर आया था जैसे !
उस पल में दो जुदा जिंदगियों की मौत हुई थी !

आज इस पल में कोई पिछले जन्म की ;
याद तुम्हे मेरे पास ले आई है
और यादों के नश्तर कैसे भरे हुए ज़ख्मों को हरा कर गए है !

ज़िन्दगी की सर्द तनहाइयों में जैसे बर्फ की आग लग चुकी हो !!

आज उम्र के अंधेरे , उसी मोड़ पर हमें ले आयें है
जिस मोड़ पर हम अलग हुए थे और
जिस पल में एक दूजे को ,
हमने सर्द होटों का कफ़न ओढा था ,

दुनियावालो , उस कफ़न का रंग आज भी लाल है !!!

रिश्ता

तुझे देखा नही ,पर तुझे चाह लिया
तुझे ढूँढा नही , पर तुझे पा लिया ..
सच !!!
कैसे कैसे जादू होतें है ज़िन्दगी के बाजारों में ....


रिश्ता


अभी अभी मिले है ,
पर जन्मों की बात लगती है
हमारा रिश्ता
ख्वाबों की बारात लगती है

आओं...एक रिश्ता हम उगा ले ;
ज़िन्दगी के बरगद पर ,
तुम कुछ लम्हों की रोशनी फैला दो ,
मैं कुछ यादो की झालर बिछा दूँ ..

कुछ तेरी साँसे , कुछ मेरी साँसे .
इस रिश्ते के नाम उधार दे दे...

आओ , एक खवाब बुन ले इस रिश्ते में
जो इस उम्र को ठहरा दे ;
एक ऐसे मोड़ पर ....

जहाँ मैं तेरी आँखों से आंसू चुरा लूँ
जहाँ मैं तेरी झोली ,खुशियों से भर दूँ
जहाँ मैं अपनी हँसी तुझे दे दूँ ..

जहाँ मैं अपनी साँसों में तेरी खुशबु भर लूँ
जहाँ मैं अपनी तकदीर में तेरा नाम लिख दूँ
जहाँ मैं तुझ में पनाह पा लूँ ...

आओ , एक रिश्ता बनाये
जिसका कोई नाम न हो
जिसमे रूह की बात हो ..
और सिर्फ़ तू मेरे साथ हो ...

और मोहब्बत के दरवेश कहे
अल्लाह , क्या मोहब्बत है !!!

Saturday, December 13, 2008

मैं चलता ही रहा....


चलना है मुझे , इसलिए मैं चलता ही रहा .....
इस सफर के हर बोझ को तो मैं ढोते ही रहा ..
साथ ही कभी - कभी मैं गीत गाते ही रहा ..
भूतकाल को भूल , वक्त के साथ , हर कदम चलते ही रहा....
पर, क्योंकि , जीवनपथ पर चलना है मुझे , इसलिए मैं चलता ही रहा .....

जीवन के हर फूल को मेहनत से मैं सींचते ही रहा .
ज़िन्दगी की अनगिनत मुश्किलों से मैं लड़ते ही रहा
कर्म ही है ,मेरी पूजा , ये मान , उसे मैं करते ही रहा
पर, क्योंकि , जीवनपथ पर चलना है मुझे , इसलिए मैं चलता ही रहा .....

जीवन की धुप छांव की परवाह न कर , मैं तो जीता ही रहा
ज़िन्दगी की हर कड़वाहट को , शिव समान , मैं पीता ही रहा
तड़प के असहनीय क्षणों में भी मैं नीलकंठ बन मुस्कराता रहा ..
पर, क्योंकि , जीवनपथ पर चलना है मुझे , इसलिए मैं चलता ही रहा .....

प्यार के फूल मैं हर एक राहगुजर पर बिखेरते ही रहा ,
बाँट अपनी खुशियाँ दूजे को , जमाने के गम समेटता ही रहा ,
लेकिन , सफर के हर मुकाम पर ; मैं "अपनों" को खोजते ही रहा
पर, क्योंकि , जीवनपथ पर चलना है मुझे , इसलिए मैं चलता ही रहा .....

जीवन रूपी इस मधुबन की खुशबु मैं लेते ही रहा
सुख दुःख की इस नदिया को मैं पार करते ही रहा
मानव धर्म का मैं पालन करते ही रहा ...
पर, क्योंकि , जीवनपथ पर चलना है मुझे , इसलिए मैं चलता ही रहा .....

मैं चलते ही रहूँगा हमेशा ....

Friday, December 12, 2008

कुछ लम्हे इमरोज़ की ज़िन्दगी के , मेरे नाम.......


मित्रो , जब कल मैं अपने घर गया तो , एक खुशी मेरा इंतजार कर रही थी ; सोचता हूँ की आप सब से share करूँ .....

मैंने आपसे कुछ दिन पहले कहा था न कि , मैंने इमरोज़ जी को अपनी नज्में भेजी है , जो उन्हें बहुत पसंद आई है .. कल मैं जब घर गया तो , उनका ख़त था , जिनमें उन्होंने मेरे लिए एक ख़त , मेरे लिए एक नज़्म , अपनी दूसरी नज्मों के साथ भेजा था....

ख़त पढ़कर और ख़त से ज्यादा मेरे लिए लिखी नज़्म पढ़कर ,आँखें नम हो गई ... उस महान इंसान के लिए , जिसने अपनी ज़िन्दगी के कुछ लम्हे मेरे नाम किए...... , मैं उन्हें कैसे धन्यवाद् दूँ ...

फिर सोचता हूँ ,कि वो तो दरवेश है ,मेरी भावनाओ को समझ लेंगे ... मेरे पास अब कोई शब्द नही बचे है .....May God Bless Him Forever....

बस उनका ख़त और उनकी मेरे लिए लिखी नज़्म को यहाँ post कर रहा हूँ और ये कहता हूँ कि :

आसमान के फरिश्तो झाँक कर देखो ,
आज मोहब्बत के दरवेश ने मुझे ख़त लिखा है ...
मैं झुक कर उसके नाम का सजदा करता हूँ ..
और मोहब्बत कि पवित्रता को सलाम करता हूँ .....








कोई कैसे तुम्हे भूल जाएँ....

तुम.....
किसी दुसरी ज़िन्दगी का एहसास हो ..
कुछ पराये सपनो की खुशबु हो ..
कोई पुरानी फरियाद हो ..
किस से कहूँ की तुम मेरे हो ..
कोई तुम्हे कैसे भूल जाएँ .....

तुम...
किसी किताब में रखा कोई सूखा फूल हो ;
किसी गीत में रुका हुआ कोई अंतरा हो ;
किसी सड़क पर ठहरा हुआ कोई मोड़ हो ;
किस से कहूँ की तुम मेरे हो ..
कोई तुम्हे कैसे भूल जाएँ .....

तुम...
किसी अजनबी रिश्ते की आंच हो;
अनजानी धड़कन का नाम हो ;
किसी नदी में ठहरी हुई धारा हो ;
किस से कहूँ की तुम मेरे हो ..
कोई तुम्हे कैसे भूल जाएँ .....

तुम...
किसी आंसू में रुखी हुई सिसकी हो ;
किसी खामोशी के जज्बात हो ;
किसी मोड़ पर छूटा हुआ हाथ हो ;
किस से कहूँ की तुम मेरे हो ..
कोई तुम्हे कैसे भूल जाएँ .....

तुम... हां, तुम ....
हां , मेरे अपने सपनो में तुम ;
हो हां, मेरी आखरी फरियाद तुम हो ;
हां, मेरी अपनी ज़िन्दगी का एहसास हो ..
मैं तुम्हे कभी नही भूलूंगा कि;
तुम मेरी चाहत का एक हिस्सा हो !!!!
शायद ,सिर्फ़ ख्वाबों में , तुम मेरे हो ....

Thursday, December 11, 2008

खामोशी

खामोशी रूह होती है प्यार की;

खामोशी को यदि लफ्जो की जुबान दी,
तो प्यार की तकदीरें बदल जाती है !

एक मेरे प्यार की तकदीर है ,
मैं खामोश ही रहता तो मेरा प्यार बदनाम न होता,
किसी अपने के लिए मैं यूँ न तडपता ,
किसी पराये में ;
मैं अपना अक्स न देखता ..

काश इस जनम से उस जनम तक
मैं खामोश ही रहता ...

कोई ,किसी नजूमी को जानता हो तो ;
मुझे बता दे ...

मैं अपनी तकदीर बदलना चाहता हूँ .......!!!

Wednesday, December 10, 2008

इमरोज़ के लिए ....


इमरोज़ के लिए ....
ये नज़्म सिर्फ़ एक नज़्म नही है ; ये मेरा सलाम है उस मोहब्बत के दरवेश को [ probably the most sacrificing love soul on earth ] ... और शायद ये मेरी अपनी तलाश को एक परिभाषा देती हुई नज़्म भी है .....

जब मैं इमरोज़ जी से कई साल पहले मिला था , तो हमने खूब paintings की बातें की थी , उन्होंने मुझे बताया की कैसे वो पाकिस्तान में paintings की पढ़ाई पूरी की , फिर हमने OSHO पर बहुत सी बातें की , यूं लगा की मैं ही इमरोज़ हूँ ... हमारे ख्यालात इतने मिलते थे.. फिर हमने अमृता जी के बारें में बातें की , उन्होंने मुझसे दिल खोल कर बातें की , मैं बहुत देर तक मोहब्बत के समंदर में उतरता ,डूबता ,फिर तैरता रहा .. फिर हम अमृता जी से मिलने गए.. मैंने उनसे भी बातें की . मैं जब इमरोज़ जी से अलग हुआ तो ,ऐसा लगा की मेरी रूह पीछे छूट रही हो…..वापसी के वक्त ; मैं बहुत देर तक उस घर को देखता रहा ,जिसमे ये दरवेश रहता है ....

फिर , मैं फिर से ज़िन्दगी की आपा-धापी और जिसे rat race कहते है ,में खो गया . और अब जाकर जब मुझे ये लगा की मैंने अपने बारें में भी जीना चाहिए तो ये नज्मों का सफर २००८ से प्रारंभ हुआ.

बीतें दिनों जब मैंने इमरोज़ जी को अपनी नज़्मे भेजी तो उन्हें बहुत पसंद आई ..फिर मैंने सोचा की क्यों न उन पर एक नज़्म लिखी जाएँ . तीन दिन पहले ये नज़्म लिखी ... so friends here it is ... लेकिन क्या ये सिर्फ़ इमरोज़ की नज़्म है या फिर मेरी भी ? या आपकी भी ? ...............!

" इमरोज़ के लिए....... "

तेरे इश्क पर मुझे रश्क है ; मेरे यार !
दो बूँद अपने इश्क के पैमाने की ,
मुझे भी पिला दे ;
तो ;
मैं भी किसी का इमरोज़ बन जाऊँ , मेरे यार !
तेरे इश्क पर मुझे रश्क है ; मेरे यार !

कौन कहता है कि
मोहब्बत के दरवेश दिखाई नही देते
कोई किसी अमृता से तेरी पहचान मांग ले ....
तेरी चाहत का एक साया ,
मैं भी ओड़ लूँ तो ,
मैं भी किसी का इमरोज़ बन जाऊँ , मेरे यार !
तेरे इश्क पर मुझे रश्क है ; मेरे यार !

रूहानी प्यार के मज़हब को
तुने ही तो सवांरा है मेरे यार ..
किसी नज़्म में ,
मैं भी किसी का ख्याल बनूँ तो
मैं भी किसी का इमरोज़ बन जाऊँ , मेरे यार !
तेरे इश्क पर मुझे रश्क है ; मेरे यार !

किसी सोच की हद से आगे है तू,
किसी दीवानगी की दरगाह है तू ,
किसी के इश्क में ,
मैं भी सजदा करूँ ...
मैं भी किसी का इमरोज़ बन जाऊं , मेरे यार !
तेरे इश्क पर मुझे रश्क है ; मेरे यार !

किस्से कहानियाँ और भी होंगे ,
पर तुझ जैसा कोई दीवाना न होंगा ,
प्यार करने वाले और भी होंगे ;
पर तुझ जैसा कोई परवाना न होंगा ;
मुझे भी अपने जैसा बना दे मेरे यार !
तो कभी, किसी अपने का ;
मैं भी इमरोज़ बन जाऊं मेरे यार !

इस ज़िन्दगी में मैं भी मोहब्बत पा लूं मेरे यार !
मैं भी किसी का इमरोज़ बन जाऊं मेरे यार !
तेरे इश्क पर मुझे रश्क है ; मेरे यार !

Tuesday, December 9, 2008

मौत

दोस्तों , पेशेखिदमत है मेरे दो creations . मेरा बनाया हुआ sketch जो कि; मैंने 1985 में बनाया था , और एक नज़्म , जो कल लिखा .... जिंदगी के अपनी परिभाषा होती है ,और अलग अलग समय में देखने का नजरिया भी अलग होता है.... देखते है ये आपको पसंद आता है या नही ... मैं अपनी हर कविता के साथ एक sketch बनाता हूँ , जो relative सा होता है ........
मौत

जिंदगी का बोझ अब सहा नही जाता
सोचता हूँ मर ही जाऊं !!

पहले
ज़रा अपने हाथो में तेरा चेहरा संभाल लूँ
ज़रा तेरे होंठो को मेरे दिल में जगह दे दूँ
ज़रा तेरी आंखों को अपनी यादों में समेट लूँ
और आख़िर में ;
तू मुझे अपने जुल्फों से ढक ले !

मेरे रब , अब मुझे तू मौत दे ही दे...!!!

Monday, December 8, 2008

अन्तिम पहर


देखो आज आकाश कितना संछिप्त है,
मेरी सम्पूर्ण सीमायें छु रही है आज इसे;
जिंदगी को सोचता हूँ , मैं नई परिभाषा दूँ.
इसलिए क्षितिज को ढूँढ रही है मेरी नज़र !!!

मैं चाह रहा हूँ अपने बंधंनो को तोड़ना,
ताकि मैं उड़ पाऊं ,सिमट्ते हुए आकाश में;
देखूंगा मैं फिर जीवन को नए मायनों में.
क्योंकि थक चुका है मेरे जीवन का हर पहर !!!

वह क्षितिज कहाँ है ,जहाँ मैं विश्राम कर सकूं;
उन मेरे पलो को ; मैं कैद कर सकूं,
जो मेरे जीवन की अमूल्य निधि कहलायेंगी.
जब आकाश सिमटेगा अपनी सम्पूर्णता से मेरे भीतर. !!!

निशिगंधा के फूलों के साथ तुम भी आना प्रिये,
प्रेम की अभिव्यक्ति को नई परिभाषा देना तुम;
क्षितिज की परिभाषा को नया अर्थ दूँगा मैं.
रात के सन्नाटे को मैं थाम लूंगा , न होंगा फिर सहर !!!

पता है तुम्हे ,वह मेरे जीवन का अन्तिम पहर होंगा,
इसलिए तुम भिगोते रहना ,मुझे अपने आप मे;
खुशबु निशिगंधा की ,हम सम्पूर्ण पृथ्वी को देंगे.
थामे रखना ,प्रिये मुझे ,जब तक न बीते अन्तिम पहर !!!

प्रेम ,जीवन ,मृत्यु के मिलन का होंगा वह क्षण,
अन्तिम पहर मे कर लेंगे हम दोनों समर्पण ;
मैं तुम मे समा जाऊंगा , तुम मुझमे.
जीवन संध्या की पावन बेला मे बीतेंगा हमारा अन्तिम पहर !!!

Saturday, December 6, 2008

पनाह


बड़ी देर से भटक रहा था पनाह की खातिर ;
कि तुम मिली !

सोचता हूँ कि ;

तुम्हारी आंखो में अपने आंसू डाल दूं...
तुम्हारी गोद में अपना थका हुआ जिस्म डाल दूं....
तुम्हारी रूह से अपनी रूह मिला दूं....

पहले किसी फ़कीर से जानो तो जरा ...
कि ,
तुम्हारी किस्मत की धुंध में मेरा साया है कि नही !!!!

Tuesday, December 2, 2008

माँ


आज गाँव से एक तार आया है !
लिखा है कि ,
माँ गुजर गई........!!

इन तीन शब्दों ने मेरे अंधे कदमो की ,
दौड़ को रोक लिया है !

और मैं इस बड़े से शहर में
अपने छोटे से घर की
खिड़की से बाहर झाँक रहा हूँ
और सोच रहा हूँ ...
मैंने अपनी ही दुनिया में जिलावतन हो गया हूँ ....!!!

ये वही कदमो की दौड़ थी ,
जिन्होंने मेरे गाँव को छोड़कर
शहर की भीड़ में खो जाने की शुरुवात की ...

बड़े बरसो की बात है ..
माँ ने बहुत रोका था ..
कहा था मत जईयो शहर मा
मैं कैसे रहूंगी तेरे बिना ..
पर मैं नही माना ..
रात को चुल्हे से रोटी उतार कर माँ
अपने आँसुओं की बूंदों से बचाकर
मुझे देती जाती थी ,
और रोती जाती थी.....

मुझे याद नही कि
किसी और ने मुझे
मेरी माँ जैसा खाना खिलाया हो...

मैं गाँव छोड़कर यहाँ आ गया
किसी पराई दुनिया में खो गया.
कौन अपना , कौन पराया
किसी को जान न पाया .

माँ की चिट्ठियाँ आती रही
मैं अपनी दुनिया में गहरे डूबता ही रहा..

मुझे इस दौड़ में
कभी भी , मुझे मेरे इस शहर में ...
न तो मेरे गाँव की नहर मिली
न तो कोई मेरे इंतज़ार में रोता मिला
न किसी ने माँ की तरह कभी खाना खिलाया
न किसी को कभी मेरी कोई परवाह नही हुई.....

शहर की भीड़ में , अक्सर मैं अपने आप को ही ढूंढता हूँ
किसी अपने की तस्वीर की झलक ढूंढता हूँ
और रातों को , जब हर किसी की तलाश ख़तम होती है
तो अपनी माँ के लिए जार जार रोता हूँ ....

अक्सर जब रातों को अकेला सोता था
तब माँ की गोद याद आती थी ..
मेरे आंसू मुझसे कहते थे कि
वापस चल अपने गाँव में
अपनी मां कि गोद में ...

पर मैं अपने अंधे क़दमों की दौड़
को न रोक पाया ...

आज , मैं तनहा हो चुका हूँ
पूरी तरह से..
कोई नही , अब मुझे
कोई चिट्टी लिखने वाला
कोई नही , अब मुझे
प्यार से बुलाने वाला
कोई नही , अब मुझे
अपने हाथों से खाना खिलाने वाला..

मेरी मां क्या मर गई...
मुझे लगा मेरा पूरा गाँव मर गया....
मेरा हर कोई मर गया ..
मैं ही मर गया .....

इतनी बड़ी दुनिया में ; मैं जिलावतन हो गया !!!!!