Thursday, February 11, 2010

ये मुझे क्या हो गया ....






किसी अनजाने से तेरे बारे में बात करना ;
और जब वो कहे की ये जानां कौन है यार ...

किसी सुबह अपने बगल में तेरा चेहरा ढूँढना ;
और फिर हँसना की मैं पागल हो गया हूँ ...

किसी शाम को उतरते हुए सूरज से ये कहना की,
तेरे चेहरे पर मेरे नाम की किरण बिखराए...

किसी रात को अचानक उठ कर बैठना,
और तेरी तस्वीर से ढेर सारी बात करना

किसी शहर में किसी गली में मुड़ते समय,
अपना हाथ तेरे लिए , तुझे थामने के लिए बढ़ाना ...

अचानक ही अपने कमरे में तुझे देखना ,
और मुस्कराना और ढेरो बाते करना ....

मेरे होंठो पर तेरे लबो का स्वाद ढूंढना ;
फिर तेरे होंठो को हवाओ में ढूंढना ...

हवाओ पर उँगलियों से .....पानी पर उँगलियों से ..
और पेड़ो पर भी अपनी उँगलियों से तेरा नाम लिखना

अकेले होते हुए भी अकेले नहीं होना
तेरे संग बस प्यार करना और सिर्फ प्यार करना

पहली नज़र का पहला जादू ....
अब तक तुम्हे देख रहा हूँ ;
ये मुझे क्या हो गया ....




42 comments:

  1. किसी शाम को उतरते हुए सूरज से ये कहना की,
    तेरे चेहरे पर मेरे नाम की किरण बिखराए...

    gazab ki prastuti hai........premi ke sare lakshan parilakshit ho gaye hain is kavita mein..........pagal premi ke.

    ReplyDelete
  2. अरे यह तो प्यार का बुखार लगता है... आज ही टेस्ट करवाना ना भूलें.. हा हा

    ReplyDelete
  3. प्यार का जादू चल गया है विजय जी ......... बहुत ही रोमेंटिक लिखा है ..... मज़ा आ गया ....

    ReplyDelete
  4. vaah! बहुत सुन्दर मनोभावो को शब्दो मे पिरोया है...।बढ़िया रचना!!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर ..... पहली नजर का पहला जादू .. वाह वाह ......

    ‘तन्हाई ...मेरी नई रचना पढ़कर टिप्पणि दिजिएगा.’.

    ReplyDelete
  6. Manmohot kar dene wali bahut hi sundar si rachana ke liye Aabhar!!
    http://kavyamanjusha.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. वाह सुना है कि वेलेन्टाईन डे के लिए कुछ युवक आपकी यही पंक्तियां सुनाने वाले हैं , अपनी मिस वेलेन्टाईन्स को , सच है क्या , हा हा हा हा , सुंदर शब्द और रचना
    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  8. bahut shandar rachanaa hai ...... shubhkamanayen.....

    ReplyDelete
  9. मुग्ध प्रेम की क्रियायें, प्रतिक्रियायें हैं यह !
    सुन्दर रचना । आभार ।

    ReplyDelete
  10. अंतर्मन से निकली कविता है। जो भी होना था आपको हो ही गया है !

    ReplyDelete
  11. किसी भोर के ताजगी से गुजारिश करना,
    कि हवायें तुझे छूकर, मेरे पास चली आयें...

    किसी ओस की बूँद से फ़ुसफ़ुसाकर पूछ लेना,
    कि यह महक और लज्जत,
    कहीं आपके गेसुओं से तो नहीं चुराये!

    और अब मुझे यह बतायें विजय जी.
    कि ये भाव कहीं आपने मेरे मन से तो नहीं चुराये?

    ReplyDelete
  12. मधुर रस में गहरे डूब कर डूबते उतराते लिखी गयी रोमांटिक रचना...वाह...क्या लिखते हैं आप...वाह वाह...

    बसंत ऋतु के साथ ऐसे रोमांटिक रचनाओं का जबरदस्त काकटेल ...देखिये कितने घायल होते हैं इसपर....
    रोमांटिक कविताये/ग़ज़ल लिखने में आप बेजोड़ हैं...
    आपकी रचनाओं का बेसब्री से इन्तजार रहता है...ये दिन जो बना जातीं हैं...

    ReplyDelete
  13. आपकी रोमांटिक रचनाओं में एक छिपी हुई टीस है, जो इसे दिल की गहराई तक उतार देती है, और मन के कोने कोने में संवेदनायें जागृत हो जाती हैं, और यादों के किसी उडन खटोले में दिल विचरने लगता है.

    मुझे अधिकतर कविताओं में सार कम लगता है, मगर आपकी कविताओं से पता नहीं क्यों , मैं रिलेट करता हों अपने मन की अभिव्यक्ति को.

    शानदार!!

    ReplyDelete
  14. bhut khub charay ka varnan keya ha....

    ReplyDelete
  15. बहुत प्रभावशाली रचना सुंदर दिल को छूते शब्द
    बहुत सुन्दर प्रेमाभिवाक्ति. सुंदर शब्द संयोजन

    ReplyDelete
  16. vijay ji aap prem bhi karte hain ya bas prem ki kavitayen likhakar doosaron ko uksate rahte hain ?
    sachmuch romantic kavita hai badhai kavita ke liye bhi aur agar pyar ho gaya ho to usake liye bhi .

    ReplyDelete
  17. fir dil umagne laga...lagta hai toofaan aane ko hai...!!!!

    ReplyDelete
  18. VIJAY JEE,PAHLEE NAZAR MEIN AESA
    HEE HOTA HAI,ZEHN KYA DIL BHEE
    PREMIKA MEIN KHOTAA HAI.AAPNE TO
    VALENTINE DAY SAARTHAK KAR DIYAA
    HAI.ROMANTIK KAVITA KE LIYE AAPKO
    BADHAAEE AUR SHUBH KAMNA.

    ReplyDelete
  19. विजय जी, कविता के अंत में आप लिखते हैं कि "ये मुझे क्या हो गया है ...."
    पूरी कविता पढ़कर आपकी मनोदशा एक ऐसे साधक की सी लगी जो देखने में तो उसका प्रेम सांसारिक प्रेम सा लगता है, किन्तु धीरे धीरे यही प्रेम इश्क़-ए-हक़ीक़ी में बदल रहा है, रूहानी-प्रेम में बदल रहा है, 'यार' तो केवल प्रतीक है. बस:
    जिधर देखता हूँ उधर तू ही तू है
    कि हर शै में जलवा तेरा हू-ब-हू है.
    अगर इस सीढ़ी तक पहुँच गए तो समझ लीजिये कि आपकी यह दीवानगी, यह इश्क़ लाहूती है, रूहानी है.
    रचना की प्रस्तुति वास्तव में दिल को छू गयी.

    ReplyDelete
  20. कवि का और उसकी कल्पना का सन्सार अनूठा होता है उसके अहसास नेचर के साथ भी आत्मालाप करते है और अपने आपको जुडा हुआ महसूस करते है. कविता के लोक से नीचे उतरने पर कवि को लगता है कि ये मुझे क्या हो गया है. ये काया परिवर्तन की बेला है.

    वैसे कुछ हो गया है तो कुछ लेते क्यू नही ? कोल्डारिन ली ?

    ReplyDelete
  21. http://hariprasadsharma.blogspot.com/
    http://sharatkenaareecharitra.blogspot.com/

    यहा भी घूम ले

    ReplyDelete
  22. PAHLI NAZAR KA JAADU. WAAH; VIJAYJI; AAPNE TO MUJHE MERE COLLEGE KE DINOM KI YAAD DILA DI. KABI NA KABHI HUM SABHI IS EHSAAS YA ANUBHAV SE RUBARU HO CUKE HAIN. BAHUT UMDA.

    ReplyDelete
  23. Recd by email from Mr. Vasu Murthy......

    Vijay

    Kavita to accha hai, lekin mujhe ye samaj me nahi aata,
    tum kaise isme doob gaye ho

    Bachpana me aise karna to suna,
    lekin ab kare to, pagalpana bole ke
    log na hasaade mere yaar ko

    Best Wishes to Vijay


    Vasu Murthy, New York

    ReplyDelete
  24. किसी शाम को उतरते हुए सूरज से ये कहना की,
    तेरे चेहरे पर मेरे नाम की किरण बिखराए...

    किसी रात को अचानक उठ कर बैठना,
    और तेरी तस्वीर से ढेर सारी बात करना
    komal ahsaas se bhari hui rachna ,ye mujhe kya ho gaya ,khud se hi bekhabar sawalo me ghiri hui is sundar rachna ka jawab nahi ,pyar me kabhi kabhi aesa bhi ho jata hai .

    ReplyDelete
  25. मुझे साहित्य का बहुत ज्यादह ज्ञान तो नहीं है लेकिन फिर भी ....
    इस कविता को पड़ कर लगता है की आज भी कवि के ह्रदय में कुछ यादे ताज़ा हैं ...
    जिनको वह हमेशा अपने से जुड़ा रखना चाहता है ..!!!
    इस कविता की जितनी भी तारीफ की जाए कम है .Usman Ali Khan
    CG Artist Mumbai.

    ReplyDelete
  26. recd. by email from Mr. Ajay Sinha....

    "bahut hi khoobsurat"

    ReplyDelete
  27. Vijay Bhai Wah! Maan Gaaye Ustaad, Aap Kay Dil Ki Yeh Ati Sundar Baat!!!

    Just fabulous...Keep on writing, Yaar!
    Sunil Sharma

    ReplyDelete
  28. लाजवाब, क्या बात, क्या बात, क्या बात
    ये मुझे क्या हो गया
    इस कविता में कैसे खो गया
    विजय भैया की ही है देन
    मैं तो बस बादलों में सो गया

    बहुत ही अच्छा है भैया, एकदम सूपर कविता...

    ReplyDelete
  29. wah.. ye sunadr rachana maine pyaar chalak raha hain...

    ReplyDelete
  30. recd. by email from Mr.Dinesh ...

    ...

    Vijay ji,

    Aapki kavita bahut hi achchi hain. Aise hi likhte raho aur aage badho, yahi kaamna kartaa hoo. Yadi samay mile to meri website www:kavidineshraghuvanshi.com bhi dekh lena aur reply karna.

    Namaskaar.

    DINESH RAGHUVANSHI
    POET

    ReplyDelete
  31. आपकी कविता पढ़ कर मुझे गुलज़ार का फिल्म सत्या का गीत..."बादलों से काट काट के ,कागजों में नाम जोड़ना , ये मुझे क्या हो गया...डोरियों से बांध बांध कर रात भर चाँद तोडना ये मुझे क्या हो गया...." याद आ गया...और क्या कहूँ...
    नीरज

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर ........कल्पनाओं के तरणताल में अठखेलियां करते हुए मन का स्वरूप

    ReplyDelete
  33. किसी शाम को उतारते हुए सूरज से ये कहना
    क तेरे चेहरे पर मेरे नाम की किरण बिखराए

    वाह हुज़ूर !
    ऐसा रूमानी लहजा
    और इतनी मीठी-मीठी प्यार भरी बातें
    लगता है वेलेनटाइन देव आप पर
    भरपूर प्रसन्न रहे अब की बार !!!
    कविता बहुत अच्छी है
    कहीं दूर यादों के गलियारों में
    खींच लिए जाती है

    बधाई

    ReplyDelete
  34. बहुत ही सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने लाजवाब रचना लिखा है! बधाई!

    ReplyDelete
  35. rat ko achanak uth key baithna........
    wah jee
    bahut sunder bhav ki abhiviyakti ki hai

    ReplyDelete
  36. bahut khubsurat rachna , pehele prem ka anayas hi smaran ho gaya

    http://bejubankalam.blogspot.com/

    ReplyDelete