Thursday, September 23, 2010

लम्हा लम्हा : मीनाकुमारी के नाम ........!!!




दोस्तों , मैं अपनी पिछली पोस्ट फिर से डाल रहा हूँ. वहां पर कमेन्ट बॉक्स का प्रॉब्लम था . 

दोस्तों , मेरे जमाने के कुछ समय पहले के जमाने की एक मशहूर अदाकारा थी , मीनाकुमारी जी . मेरी उनसे पहली मुलाकात ," साहेब , बीबी और गुलाम " फिल्म से हुई , इस फिल्म में देखने के बाद मैं इनकी फिल्मे  खोज खोजकर देखी . 

मीनाकुमारी जितनी बड़ी अदाकारा थी , उतनी ही बड़ी शायरा थी . मुझे उनकी आवाज की कशिश बहुत आकर्षित करती थी , उनकी DIALOGUE DELIVERY भी बहुत PERFECT TIMING के साथ थी .,उनके चेहरे के मासूम  EXPRESSION बहुत बहुत दिनों तक दिल में असर छोड़े रखते थे.  

मीनाकुमारी दर्द से भरी हुई एक इंसान थी . वो ON-SCREEN जितना दर्द दिखा  पाती थी , उससे ज्यादा दर्द उनके भीतर समाया हुआ था , जो की उनकी शायरी के जरिये बाहर आता था , उन्होंने बहुत दर्द भरी  नज्मे लिखी , और फिर अपनी वसीयत में गुलज़ार जी को अपनी सारी शायरियो ,गजलो, और नज्मो की वारिस बना गयी. 

गुलज़ार जी ने , उन सबको एक किताब की शक्ल में ढाल  कर हम सबको ,मीनाकुमारी के दुसरे चेहरे से रु-बू-रु करवाया . मैं अक्सर वो किताब पढ़कर आहे भरता था ,की क्या लिखती थी वो महान शायरा और अदाकारा. 

मैंने 1989 में एक रचना लिखी ,जो उनको पढ़कर ही लिखी थी .. उन्ही की स्टाइल में . ये मैंने ग़ज़ल फॉर्मेट में लिखने की कोशिश की थी , ग़ज़ल तो मुझे लिखना  नहीं आता , बस गीत समझ लीजिये , नज़्म समझ लीजिये , और पढ़ लीजिये .  

मैंने इस रचना के साथ DELHI के मनु "बे-तक्ख्ल्लुस" की बनायीं हुइ मीनाकुमारी की एक पेंटिंग भी दे रहा हूँ , जो मुझे बहुत पसंद है 

तो बस , रचना को पढ़िए, पेंटिंग देखिये , और बाद में YOU TUBE  में उनका गाना सुन लीजिये , वैसे मेरा ALL TIME FAVORITE है , चलते चलते ..यूँ ही कोई मिल गया था ....




लम्हा लम्हा

अपने आप को , फिर ढूंढ रहा हूँ मैं लम्हा लम्हा ;
ज़िन्दगी भी मैंने जिया ; उतरते चढ़ते लम्हा लम्हा !

जब थककर सोचने बैठा ,कि क्या है ज़िन्दगी ,
तो पाया मैंने , ज़िन्दगी को गुजरते लम्हा लम्हा

जब मौत ने पुछा , क्यों आ गए ,मुझ तक यूँ..
मैंने कहा ,ज़िन्दगी बीती ;बस यूँ ही लम्हा लम्हा

तुझे देखता ही रह गया , कुछ कह न पाया कभी
इसी कशमकश में जाने कब बीता हर लम्हा लम्हा

जब भी चाहा की जीने की दास्ताँ कैद करूँ
ढूँढा तो पाया वहां है सिर्फ़ सूना लम्हा लम्हा

अक्सर यूँ ही रातों को बैठकर सोचता हूँ
की टूटे  हुए सपनो को जमा करूँ लम्हा लम्हा

अश्को को कह दूँ की जरा ठहर जाएँ
की जफा की दास्ताँ याद आए लम्हा लम्हा

दिल की दस्तक को कोई कब तक थामे
की मौत आती जाए करीब लम्हा लम्हा



23 comments:

  1. Meenakumari was a legend in her own lifetime. Unka koyi sani nahi.Aapne geet bhi behtareen chuna hai.

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी यादों को करीने सी सजाती पोस्ट

    ReplyDelete
  3. बहुत शानदार लिखा है...

    ReplyDelete
  4. क्या कहें.....कि ये पेंटिंग आप तक कैसे पहुन्ची है.....इन्बोक्स कि मेल और सऐnt मेल में लम्हे का फर्क ही क्या से क्या कहर धा सकता है..
    ये शायद वो लोग भी नहीं समझ सकेंगे....जिनकी पहली ख्वाहिश ही मरने के बाद जन्नत में मीना कुमारी जी का दीदार करना है.....

    खुद को....

    जाने दीजिये....

    ReplyDelete
  5. .इन्बोक्स कि मेल और सऐnt मेल....ko



    ..


    inbox ki mail..aur sent mail padhein...

    ReplyDelete
  6. मीनाकुमारी की अदाकारी के संग न्याय करती पोस्ट।

    ReplyDelete
  7. मनु जी

    आपका बहुत बहुत धन्यवाद , आपकी पेंटिंग के बिना , ये पोस्ट अधूरी रहती .
    शुक्रिया दोस्त .

    आपका
    विजय

    ReplyDelete
  8. comment recd on last post ....

    वन्दना said...

    सुन्दर भाव संप्रेषण्………………अच्छी रचना।
    बाकी मीना कुमारी का कोई जवाब नही।

    ReplyDelete
  9. comment recd on last post ....

    AlbelaKhatri.com said...

    वाह !

    बहुत ख़ूब.........

    अच्छी कविता................अच्छा विडियो

    ReplyDelete
  10. comment recd on last post ....


    kshama said...

    Meena kumaree kaa to koyi saani nahi...bahut sundar geet sunva diya aapne!

    ReplyDelete
  11. comment recd on last post ....

    MUFLIS said...

    bahut hi sundar aur nayaab post lagaaee hai is baar...badhaaee.

    Meena ji ke liye unhi ke shabdo mei

    Aagaaz to hota hai, anjaam nahi hota
    Jab meri kahani mei wo naam nahi hota

    baaqi phir....

    ReplyDelete
  12. comment recd on last post ....


    VIJAY KUMAR VERMA said...

    बहुत ही सुन्दर रचना
    दिल को छू लेने वाली

    ReplyDelete
  13. comment recd from Mrs. Ranjana Singh ..


    विजय जी,

    आपकी मीनाकुमारी जी वाली पोस्ट पर टिपण्णी कहाँ चिपकाऊं...खोज लिया ..वहां तो कमेन्ट बॉक्स ही नहीं मिला..
    यहाँ कमेन्ट दिए दे रही हूँ ,प्लीज आप पोस्ट कर दीजियेगा...

    मीना कुमारी जी की लेखनी की मुरीद मैं भी हूँ...आपने बात छेड़ी तो लीजिये कुछ पंक्तियाँ उन्ही की -

    टुकड़े टुकड़े दिन बीता,धज्जी धज्जी रात मिली,

    जिसका जितना आँचल था,उतनी ही सौगात मिली !!

    जब चाहा दिल को समझें, हंसने की आवाज़ सुनी,
    जैसे कोई कहता हो , ले फिर से तुझ को मात मिली !!

    मातें कैसी , घातें क्या , चलते रहना आठ पहर,
    दिल सा साथी जब पाया , बेचैनी भी साथ मिली !!!

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुन्‍दर हर शब्‍द गहरे भाव लिये, बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  15. गीत सुन्दर है और थोड़े से प्रयास से एक सुन्दर ग़ज़ल में ढल सकता है ।

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर लेख धन्यवाद

    ReplyDelete
  17. अच्छी पंक्तिया की रचना की है ........

    कृपया इसे भी पढ़े :-
    क्या आप के बेटे के पास भी है सच्चे दोस्त ????

    ReplyDelete
  18. hamaari painting..aapki kavitaa...

    koi bhi is post ko adhuraa hone se nahin rok saktaa...












    adhure pan ko samjhnaa sab ke liye nahin hotaa...

    ReplyDelete
  19. बहुत अच्छी यादों को करीने सी सजाती पोस्ट

    ReplyDelete
  20. विजय जी आप लिखते रहें, हम पढ़ते रहेंगे
    दिन, महीने, साल बीतते रहेंगे लम्हा-लम्हा।।

    बहुत खूब! पेंटिंग भी लाजवाब। :))

    ReplyDelete