Thursday, April 23, 2009

क्षितिज


तुमने कहीं वो क्षितिज देखा है ,
जहाँ , हम मिल सकें !
एक हो सके !!
मैंने तो बहुत ढूँढा ;
पर मिल नही पाया ,
कहीं मैंने तुम्हे देखा ;
अपनी ही बनाई हुई जंजीरों में कैद ,
अपनी एकाकी ज़िन्दगी को ढोते हुए ,
कहीं मैंने अपने आपको देखा ;
अकेला न होकर भी अकेला चलते हुए ,
अपनी जिम्मेदारियों को निभाते हुए ,
अपने प्यार को तलाशते हुए ;
कहीं मैंने हम दोनों को देखा ,
क्षितिज को ढूंढते हुए
पर हमें कभी क्षितिज नही मिला !
भला ,
अपने ही बन्धनों के साथ ,
क्षितिज को कभी पाया जा सकता है ,
शायद नहीं ;
पर ,मुझे तो अब भी उस क्षितिज की तलाश है !
जहाँ मैं तुमसे मिल सकूँ ,
तुम्हारा हो सकूँ ,
तुम्हे पा सकूँ .
और , कह सकूँ ;
कि ;
आकाश कितना अनंत है
और हम अपने क्षितिज पर खड़े है
काश ,
ऐसा हो पाता;
पर क्षितिज को आज तक किस ने पाया है
किसी ने भी तो नही ,
न तुमने , न मैंने
क्षितिज कभी नही मिल पाता है
पर ;
हम ; अपने ह्रदय के प्रेम क्षितिज पर
अवश्य मिल रहें है !
यही अपना क्षितिज है !!
हाँ ; यही अपना क्षितिज है !!!

38 comments:

  1. पर क्षितिज को आज तक किस ने पाया है
    किसी ने भी तो नही ,
    न तुमने , न मैंने
    क्षितिज कभी नही मिल पाता है
    पर ;
    हम ; अपने ह्रदय के प्रेम क्षितिज पर
    अवश्य मिल रहें है

    विजय जी
    प्यार को पाना ही क्षितिज का मिलन है...........आसमां का ख्सितिज तो किसीने देखा नहीं...........पर दिल के ख्सितिज का तो मिलन संभव है. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  2. विजय जी..

    सुन्दर भाव भरी रचना है.

    मुश्किल यह है कि क्षितिज दिखता तो है मगर उसका अस्तित्व नहीं होता.. और शायद ये मिलन इसी लिये संभव नहीं है.. जब स्थान निश्चित नहीं तो मिलन कैसे हो :)

    ReplyDelete
  3. वाह विजय जी कितने सुन्दर भाव लिख दिये। कई दिनों के बाद पढने को मिली है आपकी रचना। दिल खुश हो गया।

    क्षितिज को कभी पाया जा सकता है ,
    शायद नहीं ;
    पर ,मुझे तो अब भी उस क्षितिज की तलाश है !
    जहाँ मैं तुमसे मिल सकूँ ,
    तुम्हारा हो सकूँ ,
    तुम्हे पा सकूँ .
    और , कह सकूँ ;
    कि ;
    आकाश कितना अनंत है
    और हम अपने क्षितिज पर खड़े है

    बहुत ही उम्दा।

    ReplyDelete
  4. bahut hi badhiya........kshitiz par milna .........kya khoob likha hai.
    sach insaan apne hriday ke prem kshitiz par hi mil sakta hai varna to kshitiz sabke hi apne apne hote hain .

    ReplyDelete
  5. क्षितिज होता तो मिल न जाता

    ढूंढो सिर्फ उसको

    तलाशो सिर्फ मुझको

    मैं मिलूं तो
    समझ लो एक सिरा हूं

    और सिरा ही है

    निरा क्षि‍तिज

    बिना सिरे के

    कैसा क्षितिज।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर लगी आपकी यह कविता विजय जी .क्षितिज मन का ही अच्छा है .अच्छे भाव उकेरे हैं आपने ..

    ReplyDelete
  7. WAAHI SAHIB AAKHIRKAAR AAPNE APNI KSHITIJ DHUNDH HI LI...
    AAKAASH KITANA ANANT HAI AUR HAM APNE KSHITIJ PE KHADE HAI...
    IS PANKTI BHAV KA AISE PDARPAN HAI KE KYA KAHI JAAYE AISA LAGAA PAL BHAR KE LIYE KE AAPKO WO KSHITIJ MIL HI GAYA.... BAHOT HI KAMAAL KI RACHANA HAI YE TO SACH ME BAHOT ACHHI LAGI...

    BADHAAYEE KUBUL FARMAAYEN

    AAPKA
    ARSH

    ReplyDelete
  8. वाह बहुत सुन्दर लिखा है। बधाई।

    ReplyDelete
  9. 'क्षितिज को आज तक किस ने पाया है
    किसी ने भी तो नही ,
    न तुमने , न मैंने
    क्षितिज कभी नही मिल पाता है
    पर ;
    हम ; अपने ह्रदय के प्रेम क्षितिज पर
    अवश्य मिल रहें है !
    यही अपना क्षितिज है !!
    हाँ ; यही अपना क्षितिज है !!!'

    - सुन्दर.

    ReplyDelete
  10. बहुत बढिया रचना है।बधाई।

    ReplyDelete
  11. A greta composition, though i got to read ur poem after a long time it was worth waiting...

    ReplyDelete
  12. विजय जी बहुत ही बेहतरीन लिखते हो इसमें कोई दोराय नहीं है आप एक सशक्‍त लेखनी के धनी हो लेकिन आज काफी दिनों के बाद आए हो ऐसे अंतराल पैदा मत किया करो जान पर बन आती है हमारी

    ReplyDelete
  13. क्षितिज पर मिलना कल्पना है, चाहे जमीन आसमान का हो या मन का( वैसे मन का क्षितिज माने?)और कल्पना का अस्तित्व नहीं होता, सिर्फ छलावा होता है, जहाँ छलावा है वहां प्रेम कैसे मिल सकता है...ये एक दिलचस्प सवाल है जिसका जवाब शायद आप के पास हो.....
    नीरज

    ReplyDelete
  14. पाया है किसने क्षितिज को,
    पा सकेगा क्या कोई?
    जैसे दूर गगन के तारे,
    तोड सकेगा क्या कोई?
    बहुत सुन्दर रचनाकर्म.बधाई.

    ReplyDelete
  15. आप की टिप्पणी मिली बहुत अच्छा लगा, मुझे तो ऐसा लग रहा था कि आप मुझसे न जाने किस बात पर ख़फ़ा हो बैठे...

    ---
    तख़लीक़-ए-नज़रचाँद, बादल और शामगुलाबी कोंपलेंतकनीक दृष्टा

    ReplyDelete
  16. शब्द , विचार , काव्य , और मन ...
    अनंत आकाश में अपने अपने
    क्षितिज के विस्तार को तलाशते हुए...
    और उसी सार्थक तलाश की साधना का
    मधुर फल ...
    आपकी ये रचना ...... बधाई .
    ---मुफलिस---

    ReplyDelete
  17. इतनी अच्छी रचना कि तारीफ के शब्द कम पड़ गए....

    ReplyDelete
  18. कहीं मैंने हम दोनों को देखा ,
    क्षितिज को ढूंढते हुए
    पर हमें कभी क्षितिज नही मिला !

    बहुत सुंदर कहा है विजय जी,,
    बधाई हो,,

    ReplyDelete
  19. bahut sunder ehsaas kshitij ka,mil ke bhi jo na mil paya,sunder under rachana badhai

    ReplyDelete
  20. जब तक क्षितिज हमारे पास नही है या हमने नही देखा ठीक है
    ये क्षितिज अगर मिलं भी जाए तो क्या है |
    बहुत सुंदर भाव को अभिव्यक्त करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  21. पर क्षितिज को आज तक किस ने पाया है
    किसी ने भी तो नही ,
    न तुमने , न मैंने
    क्षितिज कभी नही मिल पाता है
    पर ;
    हम ; अपने ह्रदय के प्रेम क्षितिज पर
    अवश्य मिल रहें है
    "kshitij ki talash or uska na milna, or fir apne pyar key hi kshitij ko pakr sntusht ho jana...kitna sehj or najuk hai ye ehsaas.....bhut hi sundr"

    regards

    ReplyDelete
  22. भावपूर्ण रचना।

    नये क्षितिज की रात दिन जारी रहे तलाश।
    एक न एक दिन आयगा मुट्ठी में आकाश।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    ReplyDelete
  23. बहुत दिनों बाद इतनी सुंदर भावपूर्ण रचनाएं पढ़ने को मिली है, बहुत सुंदर लेखन

    ReplyDelete
  24. विजय जी

    क्षितिज शायद एक मृगतृष्णा ही है। प्यार एक ठोस सच्चाई है। आप एक काल्पनिक स्थिति में एक ठोस भावना को तलाश रहे हैं। शायद आप कहना चाह रहे हैं कि हम अपने ह्रदय की सच्चाई में अपना क्षितिज पा जाएंगे और क्षितिज भी एक सच्चाई बन जाएगा।

    तेजेन्द्र शर्मा
    कथा यूके (लन्दन)

    ReplyDelete
  25. sabne khoob taarif ki he janaab aapki, ab me kyaa kahu...kya likhu...?????????
    bhaav he, rachna bhi he...par sachmuch shitiz nahi he......

    ReplyDelete
  26. रिश्ते की एक अलग तरह से बयानगी बहुत अच्छी लगी बहुत-बहुत बधाई...

    क्षितिज कभी नही मिल पाता है
    पर ;
    हम ; अपने ह्रदय के प्रेम क्षितिज पर
    अवश्य मिल रहें है !

    बहुत सुंदर पंक्तियां हैं

    ReplyDelete
  27. Awesome...!!! vijaykumarji, kitni sundar bhavpurna rachana apane likhi hai..

    ReplyDelete
  28. विजय जी,
    क्षितिज एक मरीचिका है पर प्रेम एक अटल सत्य है जो मरीचिका को भी सत्य बना देता है प्रेम हर असम्भव को संभव बना देता है .इसलिए आपको भी जब प्रेम मिलेगा तो क्षितिज भी मिल जायेगा इन्ही शुभकामनाओं के साथ अछि रचना के लिए बधाई स्वीकार करें .

    ReplyDelete
  29. मन को छू गयी आपकी भावनाओं की सरिता. बहुत ही बढ़िया रचना.

    ReplyDelete
  30. पहले तो मैं आपका तहे दिल से शुक्रियादा करना चाहती हूँ की आपको मेरी शायरी पसंद आई!
    मुझे आपका ब्लॉग बहुत ही अच्छा लगा! बहुत ही सुंदर लिखा है आपने!

    ReplyDelete
  31. Bahut hi umda rachna..kshitij man ka sabse anant hai...

    ReplyDelete
  32. भावः प्रधान रचना ,वाकई क्षितिज को आज तक किसी ने नहीं पाया और न किसी बंधन के साथ क्षितिज को पाया जा सकता है

    ReplyDelete
  33. बहुत खूबसूरत विजय जी

    ReplyDelete
  34. इस कविता को अपनी आवाज़ में अपने संशिप्त परिचय के साथ मेरे पास भेज दें rasprabha@gmail.com

    ReplyDelete
  35. भावः भरे है पोर पोर में सुंदर इसकी अनभूति है ,,
    और कहूँ क्या इस कविता में लेखनी आपकी अद्वति है,,,
    बहुत ही वेहतरीन कविता है,,
    सादर
    प्रवीण पथिक
    9971969084

    ReplyDelete