Sunday, November 29, 2009

मेरा कुछ सामान


दोस्तों ,बहुत दिनों से कुछ उलझा हुआ था ज़िन्दगी की कशमकश में , और अब , जब लगने लगा की ,मुझमे और मेरी कविताओ में दूरी बढ़ते जा रही है ,तो आज कुछ लिखा ! इस छोटी सी नज़्म को आपकी महफ़िल में नज़र करता हूँ , और उम्मीद करता हूँ की ,हमेशा कि तरह ,आप सभी अपना प्यार और आशीर्वाद से मुझे नवाजेंगे !!!





मेरा कुछ सामान


कुछ दिन पहले मेरा कुछ सामान
मैंने तुम्हारे पास रख छोडा था !

वो पहली नज़र ..
जिससे तुम्हे मैंने देखा था ;
मैं अब तक तुम्हे देख रहा हूँ..

वो पहली बार तुम्हे छूना..
वो तुम्हारे नर्म लबो के अहसास आज भी
अक्सर मुझे रातों को जगा देते है ..

वो सारी रात चाँद तारो को देखना ..
वो सारी सारी रात बाते करना ....
मैं अब भी तुम्हे चाँद में ढूंढता हूँ

वो तुम्हारे काँधे के पार मेरा देखना...
वो तुम्हारा खुलकर मुस्कराना
तुम्हारी मुस्कान अब तक मेरा सहारा बनी हुई है

वो साथ साथ दुनिया को देखना ..
वो पानी में खेलना और गलियों में भटकना ...
तेरे साथ का साया अब तक मेरे साथ है

वो तुम्हारी आँखों की गहरयियो में झांकना ..
वो तुम्हारी गुनगुनाहट को सुनना ...
वो तुम्हे जानना ,तुम्हे पहचानना

वो तुम्हारे कदमो की आहट ..
वो मेरे हाथो का स्पर्श ....
वो हमारा मिलना और जुदा होना

वो मेरा बोलना , वो तुम्हारा सुनना ..
वो मौन में उतरती बाते
वो चुपचाप गहराती राते

वो कविता ....वो गीत ..
वो शब्द ,वो ख़त ,
तुम्हारे लिखे ख़त अब , मेरी साँसे बनी हुई है

वो ढलती हुई शाम ..
वो उगता हुआ सूरज
वो ज़िन्दगी का चुपचाप गुजरना

वो तुम्हारा आना ..
वो तुम्हारा जाना ...
वो ये ;
वो वो .............
जाने क्या क्या ....

इन सब के साथ ,

मेरे कुछ आंसू भी है जांना तुम्हारे पास......

तुम्हे कसम है हमारी मोहब्बत की
मेरा सामान कभी वापस न करना मुझे !!!


20 comments:

  1. बहुत सुंदर कविता ....मन को छू गई.....

    ReplyDelete
  2. वाह बहुत सुंदर व कोमल अनुभूति.

    ReplyDelete
  3. कौन कम्बखत प्रेमिका को अपना सामान वापिस लौटाने को देता है. समान लौटा समझो प्यार गया सो सामान लेने का नही देने का. प्रेमिका की यादे कौन भूलना चाहेगा लेकिन हा कौनसी याद किस प्रेमिका की है ये तो याद करना ही पदेगा ना. नही तो पता चला कि हरि शर्मा गलत जगह पर सही मन्त्र पढते पिटते भये.

    रचना भाव और कथ्य के गहरे समन्दर मे खीच ले जाती है और अपना सब सामान भी प्रेमिका को देकर

    ReplyDelete
  4. वाह क्या बात है, बहुत सुंदर ओर भाव से भरी रचना,धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. मासूम सी कविता पर यह आधुनिक सी हरि शर्मा की टिप्पणी - मानो काजल का टीका!

    ReplyDelete
  6. प्रेम की सुन्दर अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
  7. Aise ehsaas kayiyon ne apne seeneme dafnake rakhe honge..aapne alfaaz ka haar pahna diya!

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. "वो कविता ....वो गीत ..
    वो शब्द ,वो ख़त ,
    तुम्हारे लिखे ख़त अब , मेरी साँसे बनी हुई है"

    पूरी कविता में अजब सा गुनगुना एहसास, और इन पंक्तियों ने तो गजब ही कर दिया । साँस कैसे जुदा हो, तो खत अब श्वांस-निधि बन गये हैं । आभार ।

    ReplyDelete
  9. vijay ji,

    kavita kya hai apne aap mein ek premi ke dil ki tasveer kheench gayi hai.........uske har pal ka hisab de gayi hai.....premi ke pal pal par kaise premika ke prem ne kabza kiya hua hai, uske har bhav ko darshati hai........bahut hi sundar bhavon se saji kavita.........badhayi.

    aapki pareshaniyan jab door ho jayein tab kabhi hamare blog par bhi nazar daliyega ..........aapke intzaar mein hai.

    ReplyDelete
  10. विजय जी,
    जैसे आजकल आपका मन नहीं है कवितायें लिखने का वैसे ही हमारा भी नहीं है....
    लेकिन कविता लिखनी आपके लिए ज्यादा जरूरी है बनिस्बत हमारे...
    अपनी तो जैसे तैसे....
    थोड़ी ऐसे या वैसे...

    खैर.....

    इस कविता की सबसे अच्छी बात ये लगी ...
    तुम्हे कसम है हमारी मोहब्बत की
    मेरा सामान कभी वापस न करना मुझे !!!

    बहुत अच्छे लगे ये भाव....!!!

    ReplyDelete
  11. विजय जी,
    जैसे आजकल आपका मन नहीं है कवितायें लिखने का वैसे ही हमारा भी नहीं है....
    लेकिन कविता लिखनी आपके लिए ज्यादा जरूरी है बनिस्बत हमारे...
    अपनी तो जैसे तैसे....
    थोड़ी ऐसे या वैसे...

    खैर.....

    इस कविता की सबसे अच्छी बात ये लगी ...
    तुम्हे कसम है हमारी मोहब्बत की
    मेरा सामान कभी वापस न करना मुझे !!!

    बहुत अच्छे लगे ये भाव....!!!

    ReplyDelete
  12. Bahut samay baad aapne koi rachna likhi hai ... bahut hi sashakt, lajawaab aur gahre arth liye hai aapki rachna .... gahre prem ki abhivyakti ....

    ReplyDelete
  13. काफी दिनों बाद लिखा विजय जी...
    मगर बेहतरीन लिखा...
    बहुत सुंदर...
    प्रेम में रंगी हुयी.. पूरी तरह प्रेम में ही डूबी हुयी कविता...
    जारी रखिये...
    मीत

    ReplyDelete
  14. AApke pyare se pyar ko humara pyara sa ...
    AApka Neelesh

    ReplyDelete
  15. Dear Sir,
    Bahut khoob kaha hai. Ehsason ko sparsh karne ki baat hai, prem men premi ka saman koi lauta bi nahi pata hai.
    "man let hain det chhatank nahi"

    ReplyDelete
  16. विजय जी देर से ही सही ब्लॉग जगत में वापसी पर स्वागत है...ज़िन्दगी की जद्दोजेहद में कौन नहीं फंसा हुआ...आप कोई अपवाद नहीं हैं इसलिए निराश ना हुआ करें...लड़ा करें...आपकी रचना में भी निराशा के भाव हैं और अति भावुकता है जो हकीकत से कोसों दूर है...आप कविता लिखें जिसमें आशा का सूरज जगमगाता हो...मेरी बात बुरी लगी हो तो क्षमा करें...मैं सिर्फ वाह वाह कर के आप के ब्लॉग से नहीं जा सकता जो मन में आता है उसे व्यक्त करता हूँ, क्यूँ की अपना रिश्ता ही कुछ ऐसा है...और ये अधिकार भी आपने ही मुझे दिया है.
    नीरज

    ReplyDelete
  17. अजी जनाब इसे सिर्फ कविता कह कर छोटा न बनाए.मैंने तो इस ही में एक जिदगी फिर से जी ली है.भावविभोर हो गयी हूँ .लिखने में कितना ही समय क्यों न लगा हो पर क्षण भर में ही एक जिन्दगी जी ली है और आगे के लिए फिर तैयार हूँ सुंदर प्रस्तुती के लिए बधाई

    ReplyDelete
  18. recd by email from Mr. Neelesh.....


    Aapki kavita mein masoom aur pak mohabbat ke ravangi hai...uparwala ise barkaraar rakhe.

    Aapka
    Neelesh

    ReplyDelete
  19. वाकई बहुत ही सुन्दर कविता...आज ही आपका ब्लाग मिला काश...पहले मिलाता ..कोई बात नहीं देर से आए दुरुस्त आए..बधाई..बधाई...और बधाई..

    ReplyDelete