Sunday, May 8, 2011

तलाश



माँ को मुझे कभी तलाशना नहीं पड़ा;
वो हमेशा ही मेरे पास थी और है अब भी .. !

लेकिन अपने गाँव/छोटे शहर की गलियों में  ,
मैं अक्सर छुप जाया करता था  ;
और माँ ही हमेशा  मुझे ढूंढती थी ..!
और मैं छुपता भी इसलिए था  कि वो मुझे ढूंढें !!

....और फिर मैं माँ से चिपक जाता था ..!!!

अहिस्ता अहिस्ता इस  तलाश की सच्ची आँख-मिचोली ,
किसी और झूठी तलाश में भटक गयी ,
मैं माँ की गोद से दूर होते गया ...!

और फिर एक दिन माँ का हाथ छोड़कर ;
मैं ; इस शहर की भटकन भरी गलियों में खो गया ... !!

मुझे माँ के हाथ हमेशा ही याद आते रहे .....!!

वो माँ के थके हुए हाथ ,
मेरे लिए रोटी बनाते हाथ ,
मुझे रातो को थपकी देकर सुलाते हाथ ,
मेरे आंसू पोछ्ते हुए हाथ ,
मेरा सामान बांधते हुए हाथ ,
मेरी जेब में कुछ रुपये रखते हुए हाथ ,
मुझे संभालते हुए हाथ ,
मुझे बस पर चढाते हुए हाथ ,
मुझे ख़त लिखते हुए हाथ ,
बुढापे की लाठी को कांपते हुए थामते हुए हाथ ,
मेरा इन्तजार करते करते सूख चुकी आँखों पर रखे हुए हाथ ...!

फिर एक दिन हमेशा के हवा में खो जाते  हुए हाथ !!!

 आज सिर्फ माँ की याद रह गयी है , उसके हाथ नहीं !!!!!!!!!!!

न जाने ;
मैं किसकी तलाश में इस शहर आया था ....




21 comments:

  1. कुछ तलाश उम्र भर खत्म नही होतीं.........वेदना का मार्मिक चित्रण्…………इससे ज्यादा नही कह सकती।

    ReplyDelete
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (9-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. भावों में बहा ले जाती हैं ये पंक्तियाँ।

    ReplyDelete
  4. bhut hi khubsurat aur bhaavpur abhivakti hai... happy mothers day...

    ReplyDelete
  5. माँ की तलाश बहुत ही मार्मिक और भावनात्मक रचना के रूप में प्रकट हुई. शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  6. बहुत हृदयस्पर्शी पोस्ट ...

    ReplyDelete
  7. कितनी प्यारी कविता ....सभी प्यारी प्यारी ममाओं को हैप्पी मदर्स डे

    ReplyDelete
  8. बहुत गहन!!

    मातृ दिवस की शुभकामनाएँ, मित्र.

    ReplyDelete
  9. मैं छुपता भी इसलिए था कि वो मुझे ढूंढें !!
    न जाने ;
    मैं किसकी तलाश में इस शहर आया था ....maa dhoondh nahi saki , main chhupa raha ... ab maa ko kahan dhoondhun

    ReplyDelete
  10. मेरा इन्तजार करते करते सूख चुकी आँखों पर रखे हुए हाथ ...!

    बचपन की लुकाछिपी बच्चों के बड़े होते माँ के लिए एकतरफा रह जाती है ...

    ReplyDelete
  11. माँ तो हमेशा साथ ही होती है ... पर तलाश फिर भी निरंतर रहती है ...

    ReplyDelete
  12. मार्मिक अभिव्यक्ति .............

    माँ हमेशा बच्चों के साथ रहती है .....जीवन के साथ भी -जीवन के बाद भी

    ReplyDelete
  13. विजय भाई माँ माँ होती है वो कभी दूर हो नही सकती। जहाँ भी होती है वहीं से उसके हाथ आशीर्वाद दे रहे होते हैं। मां जैसा कोई नही।

    ReplyDelete
  14. bahut gahree hai aapkee rachna me vijay ji..nishabd hun..

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर लिखते है आप विजय जी । पहली बार आपके ब्लोग पर आया हूँ ..बहुत अच्छा लगा…

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छा लिखा है..भावनात्मक रचना ..शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  17. bahut hi bhavnatmak rachna vijay ji
    shubhkamnayen.

    ReplyDelete
  18. Bhut hi sunder chitran sir ,,,, really very heart touching sir ... sach me is dunia me"MAA" bhut hi acchhi satthi hoti hai hmari ... really very nice sir ...


    priyanka trivedi.

    ReplyDelete