Monday, April 22, 2013

आदमजाद

या खुदा 
इस दुनिया के आदमजाद को अक्ल दे ,
सोच और समझ दे ;

औरते सिर्फ जिस्म के लिए नहीं होती ;
वो भी एक औरत ही है , जिसने इस आदमजाद को जन्म दिया !

औरते है तो दुनिया है !
इस बात को मजहब की तरह माने !!

या खुदा ,
इस दुनिया के आदमजाद को ये बता ,
कि औरत का वतन सिर्फ उसका बदन ही नहीं होता ,जैसा कि सारा शगुफ्ता ने कहा था !

या खुदा ,
आदमजाद को ये बता कि जानवर से भी बदतर होते जा रहा है वो .
कोई औरत उसकी बेटी ,बहन ,बीबी भी हो सकती है.

या खुदा
आदमजाद को इंसान बना !!!

विजय कुमार

7 comments:

  1. या खुदा
    आदमजाद को इंसान बना !!!

    आमीन

    ReplyDelete
  2. इन्सान तो बना दिया ,पर इंसानियत की जगह हेवानियत दे दी, यही चूक हो गयी
    .मर्म के दुःख को प्रगट करती कृति

    ReplyDelete
  3. bahut marmik rachna...mansik taur par beemar hota jaa raha hai smaaj....khuda raham...

    ReplyDelete
  4. या खुदा
    आदमजाद को इंसान बना !!!

    आज के वक्त का सबसे कठिन प्रश्न ....दुराचार करने वाले कभी कुछ समझेंगे ...नामुमकिन सा लगता है

    ReplyDelete
  5. ईश्वर सबको सम्मति दे दे।

    ReplyDelete
  6. या खुदा
    आदमजाद को इंसान बना !!!

    इंसान बनना ही सबसे आवश्यक.
    सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  7. सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete