Monday, June 15, 2009

आओ सजन

दोस्तों , मेरी नयी नज़्म " आओ सजन " आपके खिदमत में पेश है ....उम्मीद है की हमेशा की तरह आप सबका प्यार और आर्शीवाद इस कविता को मिलेंगा . ये नज़्म एक सूफियाना भक्ति गीत है . इस कविता का जन्म एक गुरूद्वारे में हुआ था ..मैं एक कीर्तन सुन रहा था ..उसमे ये शब्द थे " आओ सजन " . ये शब्द मन में बस गए और मुझे बहुत दिनों तक मुझे haunt करते रहे . और आज इसे आप सबको नज़र कर रहा हूँ .. दोस्तों ; मैं ये नज़्म ; आदरणीय प्राण शर्मा जी , आदरणीय महावीर जी , आदरणीय तेजेंद्र जी और मेरे मित्र मुफलिस जी और सुशील छोक्कर जी को समर्पित कर रहा हूँ ...ये सारे गुरु -उस्ताद और मेरे प्रिय मित्र है और देखा जाए तो उस्ताद और मित्र भी मेरे लिए सजन ही है.... दोस्तों ,जब मैंने इस नज़्म को complete किया तो एक रुहानी positive energetic aroma मेरे आस पास था .मुझे उम्मीद है की आप के साथ भी कुछ ऐसा experience हो ..... I am sure that this poem will take you to an inner journey of soul...........MAY GOD BLESS YOU ALL. आपके प्रेम के लिए ,आप सब का आभार !!!


आओ सजन , अब तो मेरे घर आओ सजन !
तेरे दर्शन को तरसे है ; मेरे भीगे नयन !
घर , दर सहित सजाया है ; अपने मन का आँगन !!
आओ सजन , अब तो मेरे घर आओ सजन !!!

तू नहीं तो जग , क्यों सूना सूना सा लगता है !
तू नहीं तो हर कोई , पराया सा नज़र आता है !
इतनी बड़ी दुनिया में कौन है यहाँ मेरा ; तेरे बिन !
आओ सजन , अब तो मेरे घर आओ सजन !!!

बहुत घूम चूका मैं ; मंदिर ,मस्जिद और गुरुद्वारे !
किसी अपने को न मिल पाया ; मैं किसी भी द्वारे...!
कहीं भी तू न मिला , भटके है हर जगह मेरा मन !!
आओ सजन , अब तो मेरे घर आओ सजन !!!

जीवन में छाये है उदासी के साये बहुत गहरे !
सबने छला है मुझको तेरे नाम से ; प्रभु मेरे !
अब तो तेरे मेहर की बरसात हो मेरे सूने आँगन !!
आओ सजन , अब तो मेरे घर आओ सजन !!!

बुल्ले शाह ने कहा था ' रमज सजन दी होर '
आज समझा हूँ कि , क्यों खींचे तू मुझे अपनी ओर !
तू ही मेरा सजन ,बस तू ही मेरा सजन !
आओ सजन , अब तो मेरे घर आओ सजन !!!

87 comments:

  1. बहुत ही बेहतरीन रचना लिखी है आपने। इसकी लय पढते हुए कानों में रस सा घोल रही है। मजा आ गया विजय जी पढकर।

    जीवन में छाये है उदासी के साये बहुत गहरे !
    सबने छला है मुझको तेरे नाम से ; प्रभु मेरे !
    अब तो तेरे मेहर की बरसात हो मेरे सूने आँगन !!
    आओ सजन , अब तो मेरे घर आओ सजन !!!

    वाह क्या बात है। अद्बुत।

    ReplyDelete
  2. सूफियाना अंदाज और कोमल सोच विजय जी की कविताओं की विशेषता हैं। बधाई।

    ReplyDelete
  3. aao sajan
    ye ek sufiyana andaz ki bahut hi sunder likhi gayi kavita haivijayjee ney bahut hi sunder shabo main iss ey likha hai
    bilkul leen huey se jan padtey hain.

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बेहतरीन नज्म है विजय जी आश्चर्य में हूँ की आप का ये पक्ष भी है बहुत खूब गुरु अब मेरे अंतरात्मा भी एक अजीब सी प्याश महशुश करने लगी है अपने महबूब से मिलने की जो निरंकार अविनाशी ब्रह्म है
    एक छोटी सी मेरी कविता आप के सम्मान में
    इस हरियाली के,,
    पीछे का सत्य,,,
    कुछ और है ,,,
    जीवन के वहाव के विपरीत ,,
    जो मद्धिम सा है संगीत ,,
    उसका तथ्य ,,
    कुछ और है ,,,
    निश्चल बादल के नीचे,,,
    जो बिजली की कड़क है ,,,
    उसका कथ्य,,
    कुछ और है,,
    पर्वत की चोटी से गिरता झरना,,
    झरने के अंतस की धरना ,,
    उसका सत्य ,,
    कुछ और है,,
    इस पवनी का शीतल वहना,,
    कानो में धीमा सर सर करना ,,
    जीवन के सत से अबगत कराती ,,
    उसके कहने का कथ्य ,,
    कुछ और है ,,,
    जब व्याकुल मन की उठती तरंग ,,
    छाता मन में सत का रंग,,,
    छिड़ती अंतस में धीमी जंग ,,,
    होती मन की हार जीत ,,,
    इस अंतर ध्वनि का सत्य ,,
    कुछ और है ,,,
    जब खिलता मन देख सुख ,,,
    इस सुख के पीछे का क्रंदन ,,
    जिसमे डूबा है कोई मन ,,
    उस दुखिता मन का सत्य ,,
    कुछ और है ,,,,,,,

    ReplyDelete
  5. bahut hi sunder rachna likhi hai blkul sufiyana rang main rangi
    pad kar ras a gaya.dhaneyvad vijay jee

    ReplyDelete
  6. Sunder rachnaa, badhai vijay Ji.

    ReplyDelete
  7. Sufiyan andaz ki ek behatreen rachna laye hain aap is baar.Meri badhai sweekarein.

    ReplyDelete
  8. sufiyana andaaj kaphi achchha laga....
    जीवन में छाये है उदासी के साये बहुत गहरे !
    सबने छला है मुझको तेरे नाम से ; प्रभु मेरे !
    अब तो तेरे मेहर की बरसात हो मेरे सूने आँगन !!
    आओ सजन , अब तो मेरे घर आओ सजन !!!

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete
  10. वाह! बहुत ही बढिया। भाव पूर्ण सूफी रचना लिखी है। बहुत अच्छी लगी।लगता है कहीं भीतर बहुत गहरे से निकली है आप की यह रचना।बधाई स्वीकारें।

    जीवन में छाये है उदासी के साये बहुत गहरे !
    सबने छला है मुझको तेरे नाम से ; प्रभु मेरे !
    अब तो तेरे मेहर की बरसात हो मेरे सूने आँगन !!
    आओ सजन , अब तो मेरे घर आओ सजन !!!

    ReplyDelete
  11. Vijay ji,

    mai kya kahoon aapke is poem ke bare me ..

    bahut hi achcha, gungunane yogy
    bas bhagwaan se prathana hai aise hi aapki lekhani din pratidin logo ka manorangan karata rahe,,

    bahut bahut badhayi ho.

    ReplyDelete
  12. कविता ने मुझे ओंकारे के करीब ला दिया। मैं ओंकार बहुत ही तनमयता स‌े स‌ुना करता हूं। और ओंकारे की ही तरह आपकी कविता का भी असर हुआ है। कुछ-कुछ पंक्तियां तो बिल्कुल आध्यात्म की ओर ले जाती हैं।


    सोचै सोचि न होवई जे सोची लखवार।
    चुपै चुप न होवई जे लाइ रहा लिवतार।
    भुखिआ भुख न उतरी जे बंना पुरीआ भार।
    सहस सिआणपा लख होहि ट इक न चलै नालि।
    किव सचिआरा होईऐ किव कूङै तुटै पालि।
    हुकमि रजाई चलणा नानक लिखिआ नालि॥

    ReplyDelete
  13. kavita ke bhav bahut gahre hain.........milan ki tadap drishtigochar ho rahi hai.....ek hi to param lakshya hai hum sab ka apne sajan ,apne priyatam se milkar poorna hona..........achchi rachna.........badhyai sweekarein.

    ReplyDelete
  14. recd. by email from Mr. Shyam Saka......

    प्रिय भाई
    अच्छए भाव हैं रचना में मगर यह नज्म न होकर नव-गीत ही कहला सकेगी।

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुंदर रचना । बधाई ।

    ReplyDelete
  16. तू नहीं तो जग , क्यों सूना सूना सा लगता है !
    तू नहीं तो हर कोई , पराया सा नज़र आता है !
    इतनी बड़ी दुनिया में कौन है यहाँ मेरा ; तेरे बिन !
    आओ सजन , अब तो मेरे घर आओ सजन

    विजय जी.......... सजन प्रभू हो, प्रेमिक या सजनी उया मित्र या कोई और........... सजन के बिन ये जीवन सूना ही होता है......... कुछ उदासी लिए लगती है ये रचना..... पर बखूबी अपना रंग लिए हुवे है..... लाजवाब लिखा है

    ReplyDelete
  17. You write very well Vijay.
    Great lines.

    ReplyDelete
  18. बहुत ही सुन्दर ....मन भावन.......सकुन भरा......मन को शीतलता से भरता हुआ गीत

    ReplyDelete
  19. अब तो मेरे घर आओ सजन !!!

    बेहतरीन कविता,
    बधाई ।

    ReplyDelete
  20. जीवन में छाये है उदासी के साये बहुत गहरे !
    सबने छला है मुझको तेरे नाम से ; प्रभु मेरे !
    अब तो तेरे मेहर की बरसात हो मेरे सूने आँगन !!

    बहुत ही गहरी अभिव्यक्ति.......

    ReplyDelete
  21. its is really nice, very very very good...

    ReplyDelete
  22. विजय जी आपकी रचना पढ़कर इस्कोन की याद आ गयी जहाँ हरी धुन में खोकर इंसान एक अद्भुत शक्तिका अनुभव करता है ,वही आनंद आपकी कविता से मिला .उमदा .हरी आओ -हरी आओ ,हरी तुम हरो जनन की पीर .

    ReplyDelete
  23. भाई विजय कुमार जी

    एक अच्छी सूफ़ियाना रचना के लिये बधाई। उम्मीद है कि आप ऐसे ही रचनात्मक ऊर्जा अपने आसपास वाले मित्रों की ओर भी प्रेषित करते रहेंगे।

    आपने इसे तीन तीन प्रवासी शर्मा बंधुओं को समर्पित करके उनका मान भी बढ़ाया है।

    लिखते रहिये।

    तेजेन्द्र शर्मा

    ReplyDelete
  24. खूब तरन्नुम से लिखा है आपने । आभार ।

    ReplyDelete
  25. bahut badhiya rachana hai vijay ji .jo mandir masjid aur gurudware men na mila wo kahi aapke bheetar hi to nahi hai...?pukar men vyakulta saf dikhai deti hai .bahur sundar rachana .badhai

    ReplyDelete
  26. हे हरि! तुम आनंद-घन,
    मैं चातक हूँ नाथ.
    प्यास मिटा दो दरश की,
    तब हो 'सलिल' सनाथ.

    दुनिया ने छल-कपट कर,
    किया 'सलिल' को दूर.
    नेह-लगन तुमसे लगी,
    अब तक था मैं सूर.

    आभारी हूँ सभी का,
    तुम ही सबमें व्याप्त.
    दस दिश में तुम दिख रहे,
    शब्दाक्षर हरि आप्त.

    मैं-तुम का अंतर मिटा,
    छाया देव प्रकाश.
    दिव्य-नर्मदा नाद सुन,
    'सलिल' हुआ आकाश.

    ReplyDelete
  27. aao sajan ek sundar or anupam geet hai jo ek sadabahar geet hai .
    bhot hi umda..
    umeed hai aapki rachnaye asse hi padne ko milti rahegi
    namshkaar

    Deepak"bedil"

    ReplyDelete
  28. तू नहीं तो जग , क्यों सूना सूना सा लगता है !
    तू नहीं तो हर कोई , पराया सा नज़र आता है !
    इतनी बड़ी दुनिया में कौन है यहाँ मेरा ; तेरे बिन !
    आओ सजन , अब तो मेरे घर आओ सजन


    भई वाह्! विजय जी, बेहद उम्दा रचना....आपका ये सूफिआना अन्दाज तो कमाल है!

    ReplyDelete
  29. aap ki ek khas ada hai jo prabhavit karatii hai.

    ek salaah bhii dungaa agar anyathaa naa le...any vishhayon par bhii kikhane kaa prayaas karen.

    shubhkaamnaaye

    ReplyDelete
  30. behatareen rachna hai satpathi ji, isi sandarbh men mere blog par "mere shyaam" dekhen. mujhe ummeed hai usmen aapko aisa hi ahsaas hoga.

    dhanyawaad.

    www.swapnyogesh.blogspot.com

    ReplyDelete
  31. recd. by email from Mr. Rahul Kundra....

    bahut khub likh hai, aap bahut badiya lakhehak hai...

    ReplyDelete
  32. जीवन में छाये है उदासी के साये बहुत गहरे !
    सबने छला है मुझको तेरे नाम से ; प्रभु मेरे !
    अब तो तेरे मेहर की बरसात हो मेरे सूने आँगन !!
    आओ सजन , अब तो मेरे घर आओ सजन !!!
    बहुत सुन्दर अध्यात्म रस मे ले जाती कवित के लिये आभार्

    ReplyDelete
  33. recd. by email from Ms. Rachna Srivastava.....

    respevted vijay ji;

    aap bahut hi achchha likhte hai .ye aao sajan aap ka ekdam alag roop hai bahut hi khoob.
    itna pyara khayal hai .padh ke achchha laga

    saader
    rachana

    ReplyDelete
  34. vijay ji kya hi behtarin line hain aapne to ik bar phir se hindi ke chayawad ke kavitaye yaad dila deen. sach men bohot hi sundar ban padi hain sajan ke intazar me aap ki linen yani shabad ke zariye aap ne kya hi behatrin kayanyat lagaya hai...

    ReplyDelete
  35. विजय भाई ,
    ईश्वर के परम तत्त्व की प्राप्ति के लिए जब् आत्मा अकुलाती है ,
    खुदा से मिलने को जब् रूह तड़पती है तब ऐसी कविता जन्मती है
    आप का मार्ग प्रशस्त हो ..
    इस साद` आशा के साथ , शुभकामना ..


    - लावण्या

    ReplyDelete
  36. बहुत ही अच्छी लगी आपकी रचना,,जैसे कोई मुसाफिर अपने अनुभव बाँट रहा हो ...!सरल सीधे शब्दों में आपने बहुत कुछ कह दिया है...!

    ReplyDelete
  37. विजय जी आपकी कविताओं की दीवानगी बढाती जा रही है .... ये मुखडा ही अपने आप में मुकम्मल है आवो सजन... कमाल की बात करी है आपने .. बहोत ही खुबसूरत भावः और उतने ही सुन्दर शब्दों का संयोजन है ....बहोत ही खूबसूरती से प्रस्तुति दी है आपने ...

    ढेरो बधाई आपको...और आपके ब्लॉग पे आते ही ये सोंग.... कैसे चल रहा है ... यार ये तो और भी मजेदार बात है और मस्ती सी छ गयी... वाह दिल वाह वाह कह उठा


    बधाई
    अर्श

    ReplyDelete
  38. VIJAY JEE
    AAP TO SOOFEE RANG MEIN
    RANG GAYE HAIN.BHAAON KEE SAATH
    SAATH SHABD BHEE JHOOM RAHE HAIN.
    MUN SE NIKLE HUE ITNE SUNDAR KEE
    RACHNAA KABHEE-KABHEE HOTEE HAI.
    MEREE BADHAAEE SWEEKAR KIJIYE.

    ReplyDelete
  39. vijay ji, bahut hi adbhut rachana hai ye......padhke mann khush ho gaya!!!!

    ReplyDelete
  40. nice one..
    last pare is gud..
    dont knw much abt sufi things...
    bt still its a nice try.. :)

    ReplyDelete
  41. ... अंतरमन से निकली रचना है, बधाईंयाँ !!!

    ReplyDelete
  42. अद्भुत अभिव्यक्ति.

    बेहतरीन भाव और सूफिआना अन्दाज़.

    ReplyDelete
  43. bheetree pyaas aur bheetreeprakaash ka adbhut aur anootha sangam kara diya hai aapne

    ye vahi kar sakta hai jo apne pyaare ka pyaasa ho aur bulle ki bhaanti poorna samarpit ho...

    ye mamlaa kavita ka nahin aantrik anubhav ka hai isliye main aapki kavita ko nahin aapki pyaas ko zyaada mahatva dunga

    kavita toh uttam hai hi.............

    badhaai !

    ReplyDelete
  44. बहुत ही खूबसूरत और भावपूर्ण रचना !

    ReplyDelete
  45. जा मैं सबक़ इश्क़ दा पढिया
    मस्जिद कोलों जिउड़ा डरिया
    पूछ पूछ ठाकुर द्वारे वडिया
    जित्थे वजदे नाद हज़ार
    इश्क़ दी नवियों नवीं बहार

    विजय भाई !
    आज आप की इस अद्वितीय रचना को पढ़ कर
    बरबस ही "बुल्ले शाह" की उपरोक्त पंक्तियाँ याद आ गईं.. जिसे प्रेम का रहस्य ज्ञात हो जाता है उसे परमेश्वर का प्रकाश अनुभव होने लगता है. अध्यात्म यात्रा की जटिलताओं से दो-चार
    होते हुए मनुष्य सदगुरु से निवेदन करता है
    कि हे प्यारे ! मुझे अपने आप में मिला ले, पूरन्तय अपने साथ .
    आपकी इस रचना में ऐसे भाव , विचार और अनुभव पा कर असीम आनंद की अनुभूति हुई . दुनिया में रहते हुए अपनी सभी जिम्मेदारियों
    इमानदारी से निभाते हुए परमार्थ के विषय में सोचते रहना अच्छा शगुन ही कहलाता है .
    आपके मन में बसी पावन भावनाओं को सभी अछि तरह से पढ़ पा रहे हैं ...बधाई स्वीकारें .

    ---मुफलिस---

    ReplyDelete
  46. विजय जी मैं हैरान हूँ कल मैंने आपकी रचना पर जो टिपण्णी की थी वो आज कहीं नजर नहीं आ रही...अब जो कल लिखा उसे एक दम वैसे ही तो नहीं लिख सकता लेकिन कुछ ऐसा ही कहा था:
    "जब कोई रचना अपने गुरुओं और मित्रों को समर्पित की जाती है वो खुद -ब- खुद सूफियाना रंग अख्तियार कर लेती है...आप का ये सार्थक प्रयास बहुत अच्छा लगा...आप दिल से लिखते हैं इसलिए असरदार होती हैं आपकी रचनाएँ...लिखते रहिये..."
    नीरज

    ReplyDelete
  47. पहले तो मैं आपका तहे दिल से शुक्रियादा करना चाहती हूँ कि आपको मेरी शायरी पसंद आई! बस आपकी दुआओं का असर है जो मैं थोडी बहुत लिखने की कोशिश करती हूँ पर आपके मुकाबले कुछ भी नहीं! मैं पेंटिंग करती हूँ इसलिए सोचा की शायरी के साथ साथ अपनी बनाई हुई पेंटिंग अगर दूँ तो और अच्छा लगेगा!
    बहुत ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने अपनी दिल की गहराई से! बेहद पसंद आया मुझे! आपकी कविता तो काबिले तारीफ है!

    ReplyDelete
  48. VIvJAY JI,
    namaskar.Thanks for your kind comments.

    I have no capacity to comment on a poet like you of such brilliance and stature...i could only express that it touched my heart.Beautiful.Regards.

    ReplyDelete
  49. Aakhri verse bahut khoobsoorat !

    God bless
    RC

    ReplyDelete
  50. simple yet powerful words.mere reference of bulleshah has the capacity to take anyone to an altogether new world and the additional thrust of your words transports one to a new abode.

    ReplyDelete
  51. बुल्ले शाह ने कहा था ' रमज सजन दी होर '
    आज समझा हूँ कि , क्यों खींचे तू मुझे अपनी ओर !

    बुल्ले शाह के बहाने बहुत सुन्दर और दिल की कह दिया

    ReplyDelete
  52. बहुत ही सुन्दर निशब्द कर दिया आपकी इस रचना ने .बहुत सुन्दर लिखी है आपने यह सूफियाना रचना .शुक्रिया

    ReplyDelete
  53. Bhakti me itni shakti to hotee hi hai ki wah prano ko aloukik rasanubhooti de jati hai...

    Ishwar ko samarpit aapki yah rachna bahut hi achchi lagi...

    ReplyDelete
  54. aap hindi me likhate hain wo hi badi baat hai..
    itna khobb likhate hain..
    mera naman aapko..

    ReplyDelete
  55. Thank you for a great poem Vijay, I can totally relate to it right now :)

    ReplyDelete
  56. सजन के भटके मन को
    नमन बार बार नमन
    सजन समा गया है मन में
    नमन बार बार नमन
    सजन बन रहा है सज्‍जन
    इस सज्‍जन को नमन।

    ReplyDelete
  57. Hamesha ki tarah sundar rachna...mai bhee hamesha kee tarah derse aayee hun comment dene..naye alfaaz kahan se laaun?
    snehsahit
    shama

    ReplyDelete
  58. विजय जी,
    वाकई बड़ी दार्शनिकता से लिखा है आपने.
    बधाई , इतने अच्छे विओछारों के लिए .
    - विजय

    ReplyDelete
  59. आपको मिली इतनी सारी बधाईयां इस बात का सबूत है, कि आपके द्वरा लिखी गयी कविता का अंदाज़ सबसे अलग है, और सीधे दिल को छू जाती है.

    आपकी ये कविता भी उम्दा ही है. आपने अनुरोध किया है कि इसको तर्ज़ बनाकर गाऊं. यदि समय का तकाज़ा नही रहा तो अवश्य मुझे खुशी होगी.

    ReplyDelete
  60. यह सूफियाना अंदाज़ में लिखी हुई कविता पढ़ते हुए ऐसा लगता है जैसे आपके ब्लॉग पर नहीं, स्वयं के दिल के मंदिर में सुन रहा हूँ. एक रूहानियत छा जाती है. चित्र को देख कर ऐसा लगा जैसे यही वह कल्पतरु है जिसके ऊपर एक दिव्य-ज्योति का सा भान हो रहा है. उस सजन से मिलन के लिए जो अकुलाहट बयान की है हृदय को विह्वल कर देती है.
    विजय जी, कविता इतनी सुन्दर है कि कहने के लिए निशब्द हूँ.

    ReplyDelete
  61. बहुत ही सुंदर,ऎसा लगा जेसे कोई भजन सुन रहै हो. धन्यवाद

    ReplyDelete
  62. A perfect blend of sufi+feelings!!!!

    ReplyDelete
  63. एक वेहतरीन सूफियाना नवगीत है. प्रिय या सजन के रूप मैं प्रभू की कल्पना है और उनसे मिलन का सतत आग्रह.

    ReplyDelete
  64. आपने पहली बार कुछ ऐसा लिखा है..मतलब इस तरहां का......बहुत ही खुबसूरत.....आपको पता है मैंने आपकी ये नज्म कल शाम पड़ ली थी....लेकिन विचार अब रख रहा हूं.......ये शब्द रात भर मेरे जेहन मैं रहे और एक गीत समझ कई बार गुनगुनाता रहा .....
    मन मैं आया अगर गीतकार होता तो....इस नज्म को अपने होठों से पूरी दुनिया को सुनाता......
    दिल को छु लिया........:) :)

    ReplyDelete
  65. recd. by email from Mr. Subhashish chatopadhyaaya ....

    read the poem.
    Liked it

    Thanks

    ReplyDelete
  66. Bilkul dil se nikali aawaz hai.Adbhut.

    ReplyDelete
  67. bahut hi khobsoorati se
    shbdon ko piroya hai
    aapne.....
    VIJAY JI
    aapko dil se bdhai........

    ReplyDelete
  68. bhai vijayji,
    prabhu charno me arpti jo bhi hota he vo prasaad ban jaataa he/ aapki rachna me kavitva vibhaag ki baat is baar me isliye nahi karunga kyoki prasaad me gun dosh nahi dekhe jaate, sirf use swikaar liya jaataa he/ so swikarya///
    dhnyavaad/

    ReplyDelete
  69. वाह वाह... पढ़ के मन को बहुत आनंद और चैन आया..
    सब लोग बहुत कुछ लिख चुके हैं..
    मैं इतना ही कहूंगा...
    चौथा खंड बहुत ही सुन्दर था...

    अद्भुत!!!

    जयंत

    ReplyDelete
  70. it is one of the best poem i came across it touched me
    very well written

    i loved it
    thanks for dropping by..
    do visit my other blog - You Never Know
    Pallav

    ReplyDelete
  71. अरे वाह, टिप्‍पणियों की बरसात।

    फिर मैं आपकी तारीफ न करूं,

    क्‍या है मेरी इतनी औकात।

    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    ReplyDelete
  72. बहुत ही अच्छी रचना है | काश "सजन" मेरे भी "घर" में आयें | भटक तो मैं भी बहुत लिया हूँ :-)

    साथ ही धन्यवाद मेरे ब्लॉग पर आने का; ख़ुशी हुई ये जानकार कि आपको ताओ ते चिंग पढ़ना अच्छा लगा |

    ReplyDelete
  73. Really nice peom...dont know hw to react...

    ReplyDelete
  74. Really amazing poem..fantastic expression of love..dont have word to comment..

    ReplyDelete
  75. बहुत सुन्दर रचना आभार

    ReplyDelete
  76. बेहतरीन रचना अद्बुत

    ReplyDelete
  77. sir itna accha kaise likh lete ho...

    ...kuch hint to do?

    maza aa gaya !!!


    ati sundar....

    ...adbhoot!!

    mujhe to bulle shah se leker mira kabir sab yaad aa gaye....

    ...aisi kavitaien zayada likhenge to logon ko pagal kar denge aap....
    ...deweena bana denge !!

    badhai...

    ReplyDelete
  78. सजन आएंगे...
    इंतज़ार कीजिये..
    पर ये पढने से ज्यादा अच्छी आपके लबों से सुन कर लगी थी...
    सुंदर...
    मीत

    ReplyDelete
  79. I read hindi with a little difficulty but its worth it.. awesome blog..

    Dark Waters.. www.downindark.blogspot.com

    ReplyDelete
  80. recd. by email from mr. yogendra Mudgil.....

    Sapatti ji,
    अच्छी रचना के लिये बधाई . मेल-बाक्स कम ही खोलता हूं इसलिये आपकी रचना देर से पढ़ पाया उदारता बरतें आपकी रचनाऒं का कथ्य हमेशा ही प्रभावित करता रहा है एक समस्या जरूर है कि आपका ब्लाग एक्सप्लोरर पर ठी से नहीं खुल रहा बार-बार एरर आने के कारण वहां टिप्पणी नहीं कर पाया
    --YM

    ReplyDelete
  81. kya bat hai SAJAN...
    kai din se milne nahi aaye.....

    ReplyDelete
  82. yeh padh ke to main apke soofiyana andaz ka kaayal ho gaya hoon........ isse behtareen rachna .........mujhe aisa kagta hai ki shayad hi maine kahin padhi ho.......

    10/10 A+++++++++++++++++++++++

    ReplyDelete
  83. recd. by email from Ms. Anushi .......

    aapne idhar kuch nahiin likhaa ? kyon? naii kawitaaon ka
    intzaar hai . bahut sunder likhte hain aap . hindii bhasha
    par aapkii pakad kaabile tariif hai .
    shubhkaamnayen .
    anushi

    ReplyDelete
  84. "जीवन की सच्चाई
    समझ परे,
    जिया जो जी-भर
    पार लगे ." [सोऽहं]
    उपरोक्त पंग्तियों को 'ओशो' नें एक शब्द दिया है 'शाक्षि-भाव'
    आपने उस 'सजन' को बुलाने के लिए खूबसूरत प्रार्थना रच दी .
    एसी खूबसूरती को नमन और बधाई. [राकेश 'सोऽहं']

    ReplyDelete
  85. विजय जी ,आपने बहुत ही सुंदर लिखा है , भक्ति और वो भी सुफिआना ढंग की का ये सुंदर उदाहरण है .....अति सुंदर ........

    ReplyDelete
  86. Whatever U have written in this NAZM is nothing but "Ek ehsaas hai apne pyare se waqt ki talash ka aur kahin na kahin dil ye chahta hai ki woh waqt, woh lamhe phir se paa jaayein to shayad bhatakte mann ko sukoon mil jaayega"


    Something which we always remember is nothing but THE LOVE.

    ReplyDelete