Wednesday, September 30, 2009

भारतीय कॉमिक्स पर आधारित मेरा नया ब्लॉग ....





दोस्तों , मैंने एक नया ब्लॉग बनाया है जो की भारतीय कॉमिक्स पर आधारित है ॥ हम सबमे एक बच्चा छुपा होता है , मुझमे भी है who refuses to grow up...... मैं आज भी कॉमिक्स पढता हूँ और पूरी तरह से दीवाना हूँ कॉमिक्स का .......बचपन से मैंने इंद्रजाल कॉमिक्स, मधुमुस्कान , दीवाना ,लोटपोट इत्यादि कॉमिक्स पढ़ी और अब तक उन्हें collect कर रहा हूँ ॥ मैंने इस ब्लॉग में भारतीय कॉमिक्स के चरित्रों को खुद skteching करके बनाया है । आपको बहुत ख़ुशी होंगी और आपके बचपन की यादें ताजा हो जाएँगी ॥ मुझे जब भी समय मिलेंगा ,मैं इन चरित्रों को बना कर आपके सामने हाज़िर करूँगा । करीब 100 भारतीय कॉमिक चरित्र है ,जिन्हें मैं इस ब्लॉग में लाने की कोशिश करूँगा .. आप सब से निवेदन है की अपने बचपन की मस्त यादो को ताज़ा करे और इस लिंक पर click करे..

http://comicsofindia.blogspot.com/

धन्यवाद...
आपका
विजय

11 comments:

  1. जाते है उसे पढने के लिये

    ReplyDelete
  2. jarur padhenge ji main bachpan itani comics pdhtaa tha ki mat poochiye school ki kitaabon me chupaakaar school me padhataa tha!!

    ReplyDelete
  3. सच में हर एक में बचपन रहता है! और ब्लॉग की रचनात्मकता उस बचपन को उभारने में बखूबी सहायक है - जैसे आपका उभार रही है।
    बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
  4. स्वागत है । अभी जा रहे है ।

    ReplyDelete
  5. पहले उस ब्लोग पर घूम आए।

    ReplyDelete
  6. लरिकाई मुबारक़ हो जी।

    ReplyDelete
  7. bachpan ke din bhi
    kayaa din tthe...
    urhte-phirte titlee bn....

    shubh kaamnaaeiN

    ---MUFLIS---

    ReplyDelete
  8. ब्लॉग शुरु करना बेहतर है । कॉमिक्स का चाव खूब था बचपन में ।

    ReplyDelete
  9. आये थे कविता पढ़ने. जा रहे हैं कॉमिक्स देखने.

    ReplyDelete
  10. मैं आज भी कॉमिक्स को उतना ही पसंद करता हूँ जितना 10 साल पहले ! मेरी पहली कॉमिक्स थी 'गमराज और बुढ़िया के बाल' फिर तो मैंने न जाने कितनी और कॉमिक्स खरीदी ! फाइटर टॉडस, कोबी-भेड़िया, बांकेलाल, जिंदा-मुर्दा एंथोनी, डोगा, चाचा चौधरी, अग्निपुत्र-अभय, फौलादी सिंह, राजन-इकबाल, शक्तिमान, चलता-फिरता बेताल फैंटम, जादूगर मेण्ड्रेक, कॉमिक्स व्लर्ड आदि ! फिलहाल तो यह दीवानगी उम्र के साथ थोड़ी कम हो गई, पर आज भी उन पुरानी कॉमिक्स के प्रति मेरी चाहत खत्म नहीं हुई ! रवि बिरुली, किरीबुरू, प.सिंहभूम, झारखण्ड !

    ReplyDelete