Wednesday, May 2, 2012

तो तुम नाराज़ तो नही होंगी न ?

 
  image courtesy : google images
अचानक एक मोड़ पर , अगर हम मिले तो ,
क्या मैं , तुमसे ; तुम्हारा हाल पूछ सकता हूँ ;
तुम नाराज़ तो नही होंगी न ?


अगर मैं तुम्हारे आँखों के ठहरे हुए पानी से
मेरा नाम पूछूँ ; तो तुम नाराज़ तो नही होंगी न ?

अगर मैं तुम्हारी बोलती हुई खामोशी से
मेरी दास्ताँ पूछूँ ; तो तुम नाराज़ तो नही होंगी न ?

अगर मैं तेरा हाथ थाम कर ,तेरे लिए ;
अपने खुदा से दुआ करूँ ; तो तुम नाराज़ तो नही होंगी न ?

अगर मैं तुम्हारे कंधो पर सर रखकर ,
थोड़े देर रोना चाहूं ; तो तुम नाराज़ तो नही होंगी न ?

अगर मैं तुम्हे ये कहूँ ,की मैं तुम्हे ;
कभी भूल न पाया ; तो तुम नाराज़ तो नही होंगी न ?

अचानक एक मोड़ पर , अगर हम मिले तो ,
क्या मैं , तुमसे ; तुम्हारा हाल पूछ सकता हूँ ;
तुम नाराज़ तो नही होंगी न ?

15 comments:

  1. सपनो की हो कोई मंजिल ,ये जरुरी तो नहीं
    हर बात में बात बन जाए ,ये जरुरी तो नहीं||

    मिल कर चलना था चार कदम ,अब वो साथ नहीं
    हर राह बदल गई ,वो ही राह अब तो नहीं ||......अनु

    ReplyDelete
  2. बहुत ही प्यारी रचना है ...
    हृदयस्पर्शी ,कोमल भवो से लिखी
    बेहतरीन रचना.....

    ReplyDelete
  3. कैसे नाराज़ हो सकती है...................
    मोहब्ब्त जो की है....

    सादर.

    ReplyDelete
  4. अगर मैं तेरा हाथ थाम कर ,तेरे लिए ;
    अपने खुदा से दुआ करूँ ; तो तुम नाराज़ तो नही होंगी न ?
    मेरी भी दुआ साथ रखना ,नाराजगी होगी ,तो दूर हो जायेगी .... !!

    ReplyDelete
  5. अचानक एक मोड़ पर , अगर हम मिले तो ,
    क्या मैं , तुमसे ; तुम्हारा हाल पूछ सकता हूँ ;
    तुम नाराज़ तो नही होंगी न ?

    बेहद उम्दा भावों को संजोया है ........एक मीठी सी कसक है ............बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति

    ReplyDelete
  6. बड़ी ही भावमयी व कोमल कविता।

    ReplyDelete
  7. बहुत से प्रश्नों के उत्तर मांगती हुई सार्थक पोस्ट......

    ReplyDelete
  8. बहुत ही खुबसूरत और प्यारी रचना.....

    ReplyDelete
  9. कह के देखिये तो ...
    नाराज़ क्यों होगी
    बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया प्रस्तुति, सुंदर रचना,.....

    ReplyDelete
  11. email comment :

    Just amazing. Shabd kum hain... kya vyakat karu apne vichaar. Bahut khoob.

    lata

    ReplyDelete
  12. भावमय करते शब्‍दों का संगम है यह अभिव्‍यक्ति ... आभार ।

    ReplyDelete
  13. आपकी पोस्ट कल 19/4/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 861:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete