Tuesday, May 8, 2012

प्यार


सुना है कि मुझे कुछ हो गया था...
बहुत दर्द होता था मुझे,
सोचता था, कोई खुदा ;
तुम्हारे नाम का फाहा ही रख दे मेरे दर्द पर…

कोई दवा काम ना देती थी…
कोई दुआ काम ना आती थी…

और फिर मैं मर गया ।
जब मेरी कब्र बन रही थी,
तो
मैंने पूछा कि मुझे हुआ क्या था।
लोगो ने कहा;
" प्यार "


23 comments:

  1. kabra se nikalti awaaj:)
    pyare logo ki awaaj aise hi aati hai:)
    behatareen shabd!

    ReplyDelete
  2. :):):)…………निशब्द

    ReplyDelete
  3. .


    आहऽऽऽ… !

    ऐ मुहब्बत तेरे अंज़ाम पॅ रोना आया …

    बहुत भावपूर्ण विजय जी !

    ReplyDelete
  4. .


    … और हां,
    ख़ूबसूरत पेंसिल स्केच के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  6. प्यार पे कुर्बान..................???

    बहुत बढ़िया!!!!

    सादर.

    ReplyDelete
  7. लोगो ने कहा;
    " प्यार "
    KHUBSURAT kubsurat KHUBSURAT

    ReplyDelete
  8. Comment on FB :

    Subodh Srivastav

    atulya kavitaayein !!!!gaagar me saagar in my fenomena

    ReplyDelete
  9. comment on FB

    Dayanidhi Batsa

    आपकी कवितायें बहुत अच्छी होती हैं...

    ReplyDelete
  10. मेरे जैसे हो जाओगे, जब इश्क तुम्हे हो जायेगा।

    ReplyDelete
  11. बहुत बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  12. क्या ये प्यार हैं ????

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्यार के तो बहुत से shades होते है जी , और प्यार में दर्द नहीं तो वो प्यार की पूर्णता नहीं कहलाई जायेंगी , और वैसे भी ये कविता तो सिर्फ एक काल्पनिक visualisation है जी . शुक्रिया आपकी आमद का .

      Delete
  13. हर डग पर ,हर पग पर
    एक बूंद गिरती हैं ,
    और बन जाती हैं प्यास
    इस जीवन की ....
    गागर की बूंद बूंद रिसती जाती हैं
    जीवन की आस किन्तु ...वैसी की वैसी ||.........अनु

    ReplyDelete
  14. बहुत बेहतरीन व प्रभावपूर्ण रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  15. बिना दर्द के प्यार कहा पूर्ण होता है ..
    गहन अभिव्यक्ति......

    ReplyDelete
  16. kamaal ka likhtey hain aap.....bahut sundar rachna...

    ReplyDelete