Thursday, May 17, 2012

ज़िन्दगी, रिश्ते और बर्फ .....!


                                              Image courtesy : Google images


ज़िन्दगी, रिश्ते और बर्फ .....!
अक्सर सोचता हूँ ,
रिश्ते क्यों जम जाते है ;
बर्फ की तरह !!!

एक ऐसी बर्फ ..
जो सोचने पर मजबूर कर दे..
एक ऐसी बर्फ...
जो जीवन को पत्थर बना दे......
एक ऐसी बर्फ ..
जो पिघलने से इनकार कर दे...

इन रिश्तों की उष्णता ,
दर्द की पराकाष्ठा पर पहुँच कर ,
जीवन की आग में जलकर ;
बर्फ बन जाती है ......

और अक्सर ही हमें शूल की तरह चुभते जाते है 
और भीतर ही भीतर जमते जाते है ये रिश्तें......

फिर ; अचानक ही एक दिन ;
हम !
अपने बनाये रिश्तो को देखते है
किसी पाषाण शिला
की तरह हिमखंड सी बर्फ में जमे हुए......

ये रिश्ते ताकते है ;
हमारी ओर !
और हमसे पूछते है ,
एक मौन प्रश्न ...
ये जन्म क्या यूँ ही बीतेंगा !
हमारी जमी हुई उष्णता कब पिघलेंगी  !

हम निशब्द होते है
अपने ही रिश्तों के अबोध प्रश्नों पर
और अपनी जीवन की जटिलता पर ....

रिश्तों की बर्फ हर पल और ज्यादा जमती जाती है ..
और लगता है जैसे हर बीतता हुआ एक एक पल ;
एक एक युग की उदासी और इन्तजार लिए हुए हो  !!
और हम एक जीवंत मृत्यु  की चादर ओढे ;
एक निश्चित मृत्यु  की प्रतीक्षा करते है..!

लेकिन ;
अक्सर इन रिश्तों की
जमी हुई बर्फ में,
हमें ,अपने ही आंसू ;
तैरते हुए दिखते है .......!!


50 comments:

  1. और हम एक जीवंत मृत्यु की चादर ओढे ;
    एक निश्चित मृत्यु की प्रतीक्षा करते है..!

    यही जीवन का सत्य है ………रिश्ता तो सिर्फ़ एक ही ऐसा है जो चिरंतन है बस वो ही हमेशा साथ रहता है बाकि तो सभी रिश्ते हिमखंड ही हैं

    अक्सर इन रिश्तों की
    जमी हुई बर्फ में,
    हमें ,अपने ही आंसू ;
    तैरते हुए दिखते है .......!!

    हाँ ऐसा ही मिलेगा जब तक हम रिश्तों की चादर को ओढ कर बैठेंगे जिस दिन इस मोह के प्रपंच से बाहर निकलेंगे वहाँ आँसू नही सिर्फ़ और सिर्फ़ मुस्कान दिखेगी वो भी अपनी ही ऊषा की प्रथम किरण सी

    ReplyDelete
  2. आमंत्रित सादर करे, मित्रों चर्चा मंच |

    करे निवेदन आपसे, समय दीजिये रंच ||

    --

    शुक्रवारीय चर्चा मंच |

    ReplyDelete
  3. वाह....................

    बिलकुल सच कहा................
    रिश्तों में उष्णता बनाये रखें और ना जमने दी जाये बर्फ की एक पतली परत भी....

    बहुत प्यारी रचना.

    अनु

    ReplyDelete
  4. विजय जी ,
    बहुत ही मार्मिक कविता है ॥मन को छू गई कहीं भीतर तक ...सोच रही हूँ अपने विद्यार्थियों से इस बार एक अभ्यास करवाऊँ ॥ अपकी आज्ञा आपेक्षित है ॥
    सविनय
    कुमुदिनी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय कुमुदिनी जी ;
      नमस्कार

      मेरी आज्ञा की कोई जरुरत नहीं है मित्र. आपको कविता अच्छी लगी , मेरे लिये यही पुरस्कार है.

      आप ले लीजिए ये कविता .

      आपका बहुत आभार .
      विजय

      Delete
  5. अक्सर इन रिश्तों की
    जमी हुई बर्फ में,
    हमें ,अपने ही आंसू ;
    तैरते हुए दिखते है .......!!
    बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  6. bahut achha likha hai yun laga apna hi man padh rahi hun.
    likhte rahiye.
    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  7. रिश्ते जब दुःख देते हैं
    तब वो ..
    पत्थर बन जाते हैं
    उन पत्थरों पर फिर बर्फ जमे या
    वक्त की धूल ..
    कोई फर्क नहीं पड़ता

    रिश्ते जब दम तोड़ते हैं
    वो अंतिम साँस नहीं लेते
    वो ता उम्र इस दिल में,
    कटु यादों के रूप में रिसते हैं
    पर बर्फ की मानिद पिघलते नहीं हैं
    अगर कभी ये बर्फ पिघलने लगे तो
    कुछ बोझ कम हो जाए
    इस जीवन से ||...अनु

    ReplyDelete
  8. ईमेल के द्वारा कमेन्ट :

    आपकी भावों से लद कद कविताओं को पढने के उपरांत मन की ऐसी स्थिति हो जाती है कि , बिलकुल भी समझ नहीं आता कि क्या प्रतिक्रिया व्यक्त करूँ..एकदम निःशब्दता की स्थिति बन जाती है, या लगता है कि बस बोलती ही जाऊं, बोलती ही जाऊं ..इतना बोलूं कि लगे, अब मनोभाव अभिव्यक्त हुआ...
    ..
    खैर, इतनी गर्मी में इस कविता द्वारा जो बर्फीला अहसास आपने दिया, दिल कूल कूल हो गया..

    ऐसे ही लिखते रहें...
    बहुत बहुत शुभकामनाएं..

    सादर,
    रंजना.

    ReplyDelete
  9. hmmmm....
    लेकिन ;
    अक्सर इन रिश्तों की
    जमी हुई बर्फ में,
    हमें ,अपने ही आंसू ;
    तैरते हुए दिखते है .......!!

    udaas si hop gayi main padh kar rishton ka katu satya
    par sach se bhagna kaisa hai to hai....

    dil ko chhoo gayi aapki barfeeli rachna

    abhaar

    ReplyDelete
  10. काश भावों की गतिमयता इस बर्फ को पिघला दे।

    ReplyDelete
  11. जब आदमी कुछ समय मौन रहकर एकांत में ध्यान करता है तो वह अपनी रूहानी हक़ीक़त को देख लेता है।

    http://sufidarwesh.blogspot.in/2012/05/ruhani-haqiqat.html

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब....
    आपके इस पोस्ट की चर्चा आज रात ९ बजे ब्लॉग बुलेटिन पर प्रकाशित होगी... धन्यवाद.... अपनी राय अवश्य दें...
    http://bulletinofblog.blogspot.in/

    ReplyDelete
  13. बहुत खूब सर ...
    रिश्तों में भावनाओ की उष्णता होनी चाहिए
    नहीं तो उनमे बर्फ पड़ जाती है....
    बहुत बेहतरीन रचना :-)

    ReplyDelete
  14. अक्सर इन रिश्तों की
    जमी हुई बर्फ में,
    हमें ,अपने ही आंसू ;
    तैरते हुए दिखते है .......!

    .....यही जीवन का कटु सत्य है...बहुत मर्मस्पर्शी रचना...

    ReplyDelete
  15. एक ऐसी बर्फ ..
    जो पिघलने से इनकार कर दे...


    -कभी तो पिघलेगी ये बरफ...इसी आस में जिये जाते हैं...उम्दा रचना!!

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  17. भावनाओं के समुद्र में सच्चाई का ज्वार !प्रस्तुति बहुत ही अच्छी बन पड़ी है |

    सुधा भार्गव

    ReplyDelete
  18. रिश्तों के बीच का बर्फीला cold wave बड़ी मुश्किल से थमता है.....
    इसमें जम गया feeling एकबार गर,वो कहाँ आसानी से गलता है !
    रिश्तों की बर्फ बन चुकी उष्णता पिघलने में बड़ा समय लेती है...
    ये पिघलती नहीं आसानी से कभी कभी पूरी जिंदगी बीत जाती है !!
    गुजारिश है मेरे दोस्तों..!
    अपने रिश्तों की गुनगुनी गरमाहट को बना के रखिए....
    कुछ भी हो जाए इन रिश्तों में प्यार बना के रखिए...!
    न जमने दीजिये अपनेपन की गर्मी को ग्लेशियर में.....
    न आने दीजिये किसी बड़ी तकरार को अपने बीच में.....
    न आने दीजिये कभी किसी तीसरे को अपने बीच में.....
    न पसरने दीजिये एक शाश्वत मौन को अपने बीच में...
    अहं के परिंदे को पर भी न मारने दीजिये...!!
    और एक-दूसरे के सम्मान को बना के रखिए....!!

    ReplyDelete
  19. ईमेल के द्वारा कमेन्ट :

    narendra agrawal :

    Dear Sri VK Ji

    Your poem depicts the depth of "RISHTE" some thing that every one has experienced. A very nice literary piece.

    ReplyDelete
  20. ईमेल के द्वारा कमेन्ट :

    sheel nigam sheelnigam@yahoo.com

    kavita sundar hai,rishton aur bhavnaon ka sammishran bahut sundar tareeke cse kiya hai,vorodhabhas mein bhi aikatmatta jhalaktee hai.

    ReplyDelete
  21. comment by email :

    Speechless.
    Yahi sach hai rishton ka

    lata

    ReplyDelete
  22. comment on FB

    Upasna Siag

    बहुत सुन्दर कविता

    ReplyDelete
    Replies
    1. मिलने की चाह में दिलबर से इस नीर ने भी कई रूप धरे !
      कभी उड़ के हवा के साथ चला कभी बर्फ़ में ढल के देखा है !!

      Vijay ji aapki kavita pe mujhe apni ye do panktiyan yaad aa gayi

      Delete
  23. comment on FB

    Ramaajay Sharma
    bahut sunder bhav

    ReplyDelete
  24. रिश्तों के दर्शन पर एक अच्छी मार्मिक कविता है। बधाई। एक भाषाई विसंगति की ओर संकेत करना चाहूँगा, आशा है अन्यथा नहीं लेंगे। "हम" के साथ "हमारे" का प्रयोग नहीं होता अपितु "अपने" का प्रयोग होता है। अतः "हम !
    हमारे बनाये रिश्तो को देखते हैं" के स्थान पर होना चाहिए "हम! अपने बनाए रिश्तों को देखते हैं।"

    ReplyDelete
    Replies
    1. भूपेंद्र जी
      आपके कमेन्ट का शुक्रिया
      और मैं अभी बदलाव करता हूं .
      धन्यवाद और आभार .
      विजय

      Delete
  25. comment on FB

    Jai Prakash Gautam

    RISTO KO TAPIS DO EHSASO KI TO BARF BHI PIGHAL JAYEGI...WARNA TO JINDGI ME RISTE BANTE BIGNA AAM BAAT HE..

    ReplyDelete
  26. रिश्तों के अबोध प्रश्नों पर निशब्द होते है सब ..और बर्फ रूह तक जमाने लगती है..बस थोड़ी सी उष्णता .. फिर पिघल भी तो जाता है सब कुछ..

    ReplyDelete
  27. विजय जी सुन्दर भावमय अभिव्यक्ति । कामना करता हूँ कि आपकी लेखनी से ऐसे ही रत्न झरते रहें और पाठकों को उनकी चमक में खुद की भावनाएँ समझने का मौका मिलता रहे ।

    ReplyDelete
  28. comment on FB :

    Xitija Singh

    फिर ; अचानक ही एक दिन ;
    हम !
    हमारे बनाये रिश्तो को देखते है
    किसी पाषाण शिला
    की तरह हिमखंड सी बर्फ में जमे हुए......

    ये रिश्ते ताकते है ;
    हमारी ओर !
    और हमसे पूछते है ,
    एक मौन प्रश्न ...
    ये जन्म क्या यूँ ही बीतेंगा !
    हमारी जमी हुई उष्णता कब पिघलेंगी !... वाह ... क्या बात है ... बेहद खूबसूरत रचना विजय जी ... !!!

    ReplyDelete
  29. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से आभार।

    ReplyDelete
  30. ईमेल के द्वारा कमेन्ट :

    Sanjay Habib


    सुन्दर चिंतन... बहुत बढ़िया रचना...
    सादर बधाई.

    ReplyDelete
  31. अल्प शब्दों में विस्तृत अभिव्यक्ति है ........

    ReplyDelete
  32. मुझको अपनी कविताओं में भी आपकी उपस्थिति की आशा है .....

    ReplyDelete
    Replies
    1. जरुर शिवानीजी ,मैं जरुर पढूंगा आपकी कविताओ को .
      धन्यवाद जी .

      Delete
  33. बर्फ है कभी तो पिघलेगी.
    पिघलते रिश्ते से टपकती बूँद आंसू बनती है .
    आंसू को न जमने दो
    गर्म आंसू से रिश्तों की परत पिघलती है .

    ReplyDelete
  34. बहुत अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  35. Very nice post.....
    Aabhar!
    Mere blog pr padhare.

    ReplyDelete
  36. बहुत बार रिश्तों को बर्फ बनते देखा है, लेकिन पिघलते नहीं देखा कभी । बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  37. अच्छी भावपूर्ण कविता है--परन्तु मेरे विचार से एक विपरीत-भाव-विसंगति है...यथा...निम्न पैरा..
    "इन रिश्तों की उष्णता ,
    दर्द की पराकाष्ठा पर पहुँच कर ,
    जीवन की आग में जलकर ;
    बर्फ बन जाती है ......"

    --- यदि रिश्तों में उष्णता रहेगी तो न दर्द पराकाष्ठा पर पहुंचेगा न बर्फ ही जमेगी ...वर्फ तभी जमती है जब रिश्तों में उष्णता नहीं रहती....

    ReplyDelete
  38. अच्छी , यथार्थपरक कविता के लिए मेरी बधाई...।

    ReplyDelete
  39. Sundar abhivyakti kuchh rishton ke sach ki...

    ReplyDelete
  40. आपकी कविता में जो रस है
    वो अन्तर्मन् को स्पर्श कर
    आत्मा तक पहुँच गयी।

    पुण्य प्रकाश त्रिपाठी
    एक सोच

    ReplyDelete