Monday, June 11, 2012

इंतजार


                                                          स्केच मैंने बनायी हुई है .



मेरी ज़िन्दगी के दश्त,
बड़े वीराने है !

दर्द की तन्हाईयाँ ,
उगती है
मेरी शाखों पर नर्म लबों की जगह.......!!

तेरे ख्यालों के साये
उल्टे लटके ,
मुझे क़त्ल करतें है ;
हर सुबह और हर शाम .......!!

किसी दरवेश का श्राप हूँ मैं !!

अक्सर शफ़क शाम के
सन्नाटों में यादों के दिये ;
जला लेती हूँ मैं ...

लम्हा लम्हा साँस लेती हूँ मैं
किसी अपने के तस्सवुर में जीती हूँ मैं ..

सदियाँ गुजर गयी है ...
मेरे ख्वाब ,मेरे ख्याल न बन सके...
जिस्म के अहसास ,बुत बन कर रह गये.
रूह की आवाज न बन सके...

मैं मरीजे- उल्फत बन गई हूँ
वीरानों की खामोशियों में ;
किसी साये की आहट का इन्तजार है ...

एक आखरी आस उठी है ;
मन में दफअतन आज....
कोई भटका हुआ मुसाफिर ही आ जाये....
मेरी दरख्तों को थाम ले....

अल्लाह का रहम हो ;
तो मैं भी किसी की नज़र बनूँ
अल्लाह का रहम हो ;
तो मैं भी किसी की हीर बनूँ......


[ शब्दों के अर्थ  :
दश्त : जंगल // शफ़क : डूबते हुए सूरज की रोशनी // दफअतन : अचानक ]


26 comments:

  1. दर्द की तन्हाईयाँ ,
    उगती है
    मेरी शाखों पर नर्म लबों की जगह.......!!


    आह! देखो तो ज़रा
    लबों का लहू ही
    उनकी ताज़पोशी करता है



    तेरे ख्यालों के साये
    उल्टे लटके ,
    मुझे क़त्ल करतें है ;
    हर सुबह और हर शाम .......!!

    किसी दरवेश का श्राप हूँ मैं !!



    क्यूंकि श्रापित रूहें ही उल्टी लटका करती हैं

    ReplyDelete
  2. सब के दिल में पलते हैं अरमान कुछ ऐसे ही...........

    मगर सब यूँ व्यक्त नहीं कर पाते.....इतनी खूबसूरती से....
    शब्दों के साथ रेखाओं से भी प्यारी अभिव्यक्ति.....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  3. सादगी सी चाह ... गहरा एहसास लिए मन में उतर गई ये रचना विजय जी .... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  4. comment by email :

    अच्छी कविता है , विशेषकर यह पंक्तियाँ
    सदियाँ गुजर गयी है ...
    मेरे ख्वाब ,मेरे ख्याल न बन सके...
    जिस्म के अहसास ,बुत बन कर रह गये.
    रूह की आवाज न बन सके...
    बधाई

    Dr. Prem Janmejai

    ReplyDelete
  5. dard ko lekar aapne bahut khubsurat kavita ko shabd diye hain,badhai.

    ReplyDelete
  6. एक आखरी आस उठी है,
    मन में दफनत आज...भावपूर्ण अभिव्यक्ति|

    ReplyDelete
  7. वाह!ऐसे ही ख्वाब आने दो,हकीकत भी बन जायेंगे |

    ReplyDelete
  8. vijay , nice expressions as always

    ReplyDelete
  9. सदियाँ गुजर गयी है ...
    मेरे ख्वाब ,मेरे ख्याल न बन सके...
    जिस्म के अहसास ,बुत बन कर रह गये.
    रूह की आवाज न बन सके..
    .....बहुत मर्मस्पर्शी...रचना के भाव अंतस को छू जाते हैं....बहुत सुन्दर भावमयी रचना...

    ReplyDelete
  10. बहुत बढिया लिखा है...

    अल्लाह का रहम हो ;
    तो मैं भी किसी की नज़र बनूँ
    अल्लाह का रहम हो ;
    तो मैं भी किसी की हीर बनूँ......

    ReplyDelete
  11. भावों से ओतप्रोत कविता को आपने अपने स्केच में ढालने का अच्छा -खासा प्रयत्न किया है |

    ReplyDelete
  12. rachna avum tasveer dono achhe hain.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  13. दर्द भरी दास्तां!...अति सुन्दर!

    ReplyDelete
  14. बहुत बढिया लिखा है...

    ReplyDelete
  15. बैठी हूँ अब तलक सांझ के होते अंधेरों में
    अभी रात की गहराई तो बाकी हैं
    जल रही हैं बाती इस दीए की
    पूरी लौं तक जलना अभी बाकि हैं ||.......अनु

    ReplyDelete
  16. EK AUR KHOOBSOORAT KAVITA KE LIYE AAPKO BADHAAEE .

    ReplyDelete
  17. अभी फेस बुक पर भी पढ़ी- बहुत गहरी रचना है...बहुत बधाई. चित्र भी जबरदस्त!!

    ReplyDelete
  18. रेखांकन के साथ शब्दों की घड़ाई
    उम्दा शिल्पकृति सी लगी है भाई

    आभार

    ReplyDelete
  19. आस रहेगी शेष,
    मान लो,
    सुधरेगा परिवेश।

    ReplyDelete
  20. "तेरे ख्यालों के साये
    उल्टे लटके ,
    मुझे क़त्ल करतें है ;
    हर सुबह और हर शाम .......!!

    किसी दरवेश का श्राप हूँ मैं !!"
    कितना दर्द है इस अभिव्यक्‍ति में ! आह! बेहतरीन!


    मेरे ब्लॉग का link - www.sushilashivran.blogspot.in

    आपका इंतज़ार है मेरे ब्लॉग पर !

    ReplyDelete
  21. अल्लाह का रहम हो ;
    तो मैं भी किसी की हीर बनूँ......

    बेशक. बहुत सुंदर नज़्म.

    ReplyDelete
  22. AK SUNDER BHAWPOORAN ABHIVYAKTI.

    ReplyDelete
  23. दिल को छु लेनेवाले अहसास है..
    गहरी भावनाए है इस रचना में..
    बहुत खूब..
    बहुत सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  24. अल्लाह करम तो करता ही है ..हम ही आँखे मींचे होते है .. क्या कहूँ..इसके आगे..निशब्द..

    ReplyDelete