Friday, June 15, 2012

सलीब


कंधो से अब खून बहना बंद हो गया है ...
आँखों से अब सूखे आंसू गिर रहे है..
मुंह से अब आहे - कराहे नही निकलती है..!

बहुत सी सलीबें लटका रखी है मैंने यारों ;
इस दुनिया में जीना आसान नही है ..!!!

हँसता हूँ मैं ,
कि..
ये सारी सलीबें ;
सिर्फ़ सुबह से शाम और
फिर शाम से सुबह तक के
सफर के लिए है ...

सुना है , सदियों पहले किसी
देवता ने भी सलीब लटकाया था..
दुनियावालों को उस देवता की सलीब ,
आज भी दिखती है ...

मैं देवता तो नही बनना चाहता..,
पर ;
कोई मेरी सलीब भी तो देखे....
कोई मेरी सलीब पर भी तो रोये.....

37 comments:

  1. बहुत सुन्दर .... सलीब पर कोई रोने वाले अगर मिल जाये तो ये जिंदगानी के कोई मायने हो

    ReplyDelete
  2. पीड़ा पीना, फिर भी जीना, एक राह सबको जाना,

    ReplyDelete
  3. कविता पढ़ते-पढ़ते एक सलीब उग आया ..दर्द का अहसास होने लगा ..सफ़र तो करना ही है और दर्द भी सहना ही है..आह..!

    ReplyDelete
  4. अपनी अपनी सलीब सबको खुद उठानी पडती हैं ।

    ReplyDelete
  5. कुछ अजीब सी कशिश है इस रचना में....

    ReplyDelete
  6. bahut achchhi kavita hai aur man ko chhu jati hai.

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब, उम्दा काव्य विजय भाई

    मिलिए सुतनुका देवदासी और देवदीन रुपदक्ष से
    रामगढ में,
    जहाँ रचा गया मेघदूत।

    ReplyDelete
  8. यूँ तो पूरी कविता बहुत सुंदर है परन्तु कुछ पंक्तियाँ तो अद्भुत है जैसे

    बहुत सी सलीबें लटका रखी है मैंने यारों ;
    इस दुनिया में जीना आसान नही है ..!!!


    या फिर

    कंधो से अब खून बहना बंद हो गया है ...
    आँखों से अब सूखे आंसू गिर रहे है..

    बधाई इस प्रस्तुति के लिये.

    ReplyDelete
  9. बहुत शानदार लिखा है आपने!
    पितृदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  10. बहुत दर्द समेटे हुए हैं ..

    ReplyDelete
  11. पर ;
    कोई मेरी सलीब भी तो देखे....
    कोई मेरी सलीब पर भी तो रोये.....

    sach kaha....
    bahut achha likha hai

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  12. मैं देवता तो नही बनना चाहता..,
    पर ;
    कोई मेरी सलीब भी तो देखे....

    sach me... har insaan ki tamanna... koi hamari peera bhi samjhe..

    ReplyDelete
  13. LAJAWAAB KAVITA KE LIYE APKO BADHAAEE AUR SHUBH KAMNA.

    ReplyDelete
  14. अतीव पीड़ा की अनुभूति करती हुई सुन्दर कविता !

    ReplyDelete
  15. इतनी सलीबों पर क्या क्या लटकाना पडता है अपने अरमान, अपनी, भावनाएं अपनी जिंदगी................. ।

    ReplyDelete
  16. जिंदगी के कई पहलू हैं .......एक पहलू ये भी !

    ReplyDelete
  17. लटके हुवे सलीब पर, धड़ की दुर्गति देख ।

    जीभ धड़ा-धड़ चल रही, अजब भाग्य का लेख ?

    अजब भाग्य का लेख , ढूँढ ले रोने वाले ।

    बाकी जान-जहान, शीघ्र ना खोने वाले ।

    चेहरे की मुस्कान, मगर कातिल की खटके ।

    करनी बंद दुकान, मरो झट लटके लटके ।।

    ReplyDelete
  18. देखे कौन यहाँ किसको अवाज दूँ
    सबके काँधों पर अपने सलीब हैं


    सुंदर रचना...
    सादर।

    ReplyDelete
  19. सुन्दर अभिव्यक्ति.
    सलीब के चिंतन से ही सलीब से मुक्त हुआ जा सकता है.

    ReplyDelete
  20. सब अपनी-अपनी ढोने में लगे हैं, कहाँ किसी को अवकाश कि दूसरों की सलीब देखें !

    ReplyDelete
  21. सबकी अपनी अपनी सलीब .... सबका अपना अपना रोना ... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सुन्दर रचना.. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  23. ...बहुत सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  24. हँसता हूँ मैं ,
    कि..
    ये सारी सलीबें ;
    सिर्फ़ सुबह से शाम और
    फिर शाम से सुबह तक के
    सफर के लिए है ...

    ....यही ज़िंदगी का दर्द और शाश्वत सत्य है...बहुत मर्मस्पर्शी रचना....

    ReplyDelete
  25. मैं देवता तो नही बनना चाहता..,
    पर ;
    कोई मेरी सलीब भी तो देखे....
    कोई मेरी सलीब पर भी तो रोये.....
    wah.... kya kahun speechless

    ReplyDelete
  26. आपकी कवितायें,निसंदेह,भावपूर्ण हैं,क्षमा करें,सलीबों पर देवता चढते हैं
    हम-आप तो इन्सान हैं,जो केवल इस जीवन के हकदार हैं.हर-पल जिएं
    पलों में स्वर्ग ढूढिये,और कुछ भी नहीं.

    ReplyDelete
  27. आपकी कवितायें,निसंदेह,भावपूर्ण हैं,क्षमा करें,सलीबों पर देवता चढते हैं
    हम-आप तो इन्सान हैं,जो केवल इस जीवन के हकदार हैं.हर-पल जिएं
    पलों में स्वर्ग ढूढिये,और कुछ भी नहीं.

    ReplyDelete
  28. bahut kuchha sikhati hai ye kavita

    ReplyDelete