Saturday, November 20, 2010

राह



सूरज चढ़ता  था और उतरता था....
चाँद चढ़ता था और उतरता था....
जिंदगी कहीं भी रुक नही पा रही थी,
वक्त के निशान पीछे छुठे जा रहे थे ,
लेकिन मैं वहीं खड़ा हूं ...
जहाँ तुमने मुझे छोडा था....
बहुत बरस हुए ;
तुझे ,  
मुझे भुलाए हुये !

मेरे घर का कुछ हिस्सा अब ढ़ह गया है !!
मुहल्ले के बच्चे अब जवान हो गए है ,
बरगद का वह पेड़ ,
जिस पर तेरा मेरा नाम लिखा था
शहर वालों ने काट दिया है !!!

जिनके साथ मैं जिया ,वह मर चुके है
मैं भी चंद रोजों में मरने वाला हूं
पर,
मेरे दिल का घोंसला ,
जो तेरे लिए मैंने बनाया था,
अब भी तेरी राह देखता है.....



28 comments:

  1. हर एक शब्‍द नि:शब्‍द करता हुआ ...बहुत ही सुन्‍दर ।

    ReplyDelete
  2. भावों को बेहद संजीदगी से पिरोया है……………हर शब्द खुद बोल रहा है……………सुन्दर अभिव्यक्ति हमेशा की तरह्।

    ReplyDelete
  3. Aap stabdh kar dete hain!Behad sundar!

    ReplyDelete
  4. दिल के गोंसले में यादों के पंछी।

    ReplyDelete
  5. प्रेम की अदभुद अनुभूति कराती कविता.. सुन्दर !

    ReplyDelete
  6. बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति ....प्रेम भावना का सच्चा एहसास

    ReplyDelete
  7. प्रेम की बेहतरीन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  8. जिनके साथ मैं जिया ,वह मर चुके है
    मैं भी चंद रोजों में मरने वाला हूं

    .....??
    ... ??
    .... ????

    ReplyDelete
  9. हमको वफा की उनसे है उम्मीद, जो नहीं जानते वफा क्या है।--ग़ालिब

    ReplyDelete
  10. रूह से रूह तक जाने वाली खोबसूरत एहसास और दिलकश भाव लिए ... लाजवाब रचना है विजय जी ... प्रेम में अक्सर ऐसा होता है ...

    ReplyDelete
  11. आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आया हूँ बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ........
    http://saaransh-ek-ant.blogspot.com/

    ReplyDelete
  12. इसी को कहते हैं अभिव्यक्ति और कविता भी... जो बात दिल तक पहूँचे !

    ReplyDelete
  13. जिनके साथ मैं जिया ,वह मर चुके है
    मैं भी चंद रोजों में मरने वाला हूं...
    ????????????????
    कोई लाख चाहे अपनी लिखी मौत से पहले नहीं मर सकता जनाब .....

    मेरे दिल का घोंसला ,
    जो तेरे लिए मैंने बनाया था,
    अब भी तेरी राह देखता है.....

    घोसला अभी भी सही सलामत है विजय जी .....????

    संवेदनशील rachna .....!!

    ReplyDelete
  14. बड़ी ही संजीदा अभि‍व्‍यक्‍ि‍त पढ़वाने के लि‍ए आभार

    ReplyDelete
  15. काल-भ्रन्श है, बात स्वयं के संदर्भ में है अतः था, थी, थे के स्थान पर...है..हैं होना चाहिये अर्थात ...खडा हूं से तादाम्य...

    --- सामान्य वर्णनात्मक, अभिधात्मक कविता है...

    ReplyDelete
  16. आदमी का मन कितना भी भारी या मायूस क्यों न हो,आपकी रचना पढ़ आदमी मुंह लटकाए बैठा न ही रह सकता....
    गजब का लिख देते हैं आप विजय जी...

    कभी लिखना छोड़ने की न सोचियेगा...अइसे ही सदा लिखते रहिएगा...

    ReplyDelete
  17. मेरे दिल का घोंसला ,
    जो तेरे लिए मैंने बनाया था,
    अब भी तेरी राह देखता है....

    बहुत अच्छी रचना है...भावुक कर देने वाली.

    ReplyDelete
  18. भई हमारा तो कुछ भी साबूत नहीं बचा। आपका घोंसला बचा हुआ है, औऱ राह तक रहा है गनीमत है। आशा कितनी निर्मोही हो जाती है न कई बार। इंतजार से बाज ही नहीं आने देती। सारे निशान मिट जाएंगे एक दिन, फिर भी आशा बनी रहेगी।

    सुंदर कविता की कोशिश काफी हद तक कामयाब।

    ReplyDelete
  19. विजय जी
    नमस्कार !
    ......प्रेम की बेहतरीन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  20. बरगद का वह पेड़ , जिस पर नाम था हमारा
    उसे शहरवालों ने कटवा दिया ....
    पर नाम आज भी जिंदा है
    घोंसले में इंतज़ार जो है

    ReplyDelete
  21. स्वागत के लिये तैयार हैं हम सर जी

    ReplyDelete
  22. यहॉं तो अभी गुँजाईश है एक शायर के साथ तो ऐसा हुआ कि:

    मरने के बाद भी मेरी ऑंखें खुली रहीं
    आदत पड़ी हुई थी उन्‍हें इंतज़ार की।

    ReplyDelete
  23. बहुत अच्छी लगी कविता। बधाई।

    ReplyDelete
  24. संवेदनशील रचना के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  25. आह ! इतनी सुन्दर अभिव्यक्ति ... सही कहा राह देखते-देखते हम किसी और सफ़र पर निकल जातें हैं . आपकी हर रचना क्यों रुकने पर विवश कर देती है .क्या कहूँ ? अच्छा लगा ....बस

    ReplyDelete