Thursday, April 28, 2011

फासला


 

कुछ सालो का फासला है ,
मेरी और तुम्हारी उम्र में ;

लेकिन , सच तो ये है कि ;
मेरे ह्रदय के धड़कन की उम्र वही है ;
जो तुम्हारी मुस्कराहट की है ,
जो तुम्हारी आँखों में ठहरी चमक की है ,
जो तुम्हारे आगोश की मुक्तता की है ,
जो तुम्हारे बालो के बिखराव की है ;
[ तुम्हारा बालो का तुम्हारे चेहरे पर बिखरना ,मुझे बहुत लुभाता है ],
और ऐसी ही कई सारी बाते, जहाँ आकर तुम्हारी उम्र रुक जाती है ,
सच कहता हूँ , कि मेरी उम्र भी वही  हो जाती है .

और फिर अक्सर ये फासले ढह जाते है ;
जब तुम अपने चेहरे को मेरे चहरे के करीब ले आती हो
और मैं तुम्हे अपनी बांहों में समेटता हूँ ,
और तुम्हारे होंठ
मुझसे कहते है कि
हम अभी तो मिले है
और उम्र और ज़िन्दगी के बीच खड़े है
इस पुल पर सिर्फ मैं हूँ और तुम हो ..


फिर सारे  फासले बादलो में बह जाते है ..
और रह जाते है ;
सिर्फ मैं और तुम और हमारा निश्चल प्रेम !!!!



16 comments:

  1. इस पुल पर सिर्फ मैं हूँ और तुम हो ..
    फिर सारे फासले बादलो में बह जाते है ..और रह जाते है ;सिर्फ मैं और तुम और हमारा निश्चल प्रेम !!!!

    बेहतरीन..बहुत सुन्दर भावपूर्ण शब्द चित्र..

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरती के साथ शब्दों को पिरोया है इन पंक्तिया में आपने

    ReplyDelete
  3. जहाँ दिल मिल जाते हैं वहाँ फ़ासले रहते ही कहाँ हैं……………वहाँ तो बिना कहे ही एक के मन की बात दूजे तक पहुँच जाती है।
    ये अल्फ़ाज़ बेहद अच्छे लगे………
    मेरे ह्रदय के धड़कन की उम्र वही है ;जो तुम्हारी मुस्कराहट की है

    एक अलग ख्याल की कविता के लिये बधाई।

    ReplyDelete
  4. बेहद खूबसूरत अहसास...
    सुंदर अभिव्यक्ति..बधाई..

    ReplyDelete
  5. प्यार के पलों को
    अपनी ही तरह से
    सुन्दर सा परिभाषित कर दिया आपने ...
    वाह !!

    ReplyDelete
  6. Aapne har baar kee tarah,is baar bhee maun kar diya!

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  8. जो वस्ल-ए-यार है लिखा तो होके रहेगा
    उम्रों के फासले कभी क्या रोक सकेंगे
    रूहों का वजूद तूफाँ से नहीं मिटता
    वो मेहरबां,तो आंधियों मे चराग जलेंगे

    ReplyDelete
  9. Umra ka bandhan shareer k lie hota h dilo k lie nahi... pyari kavita :)

    ReplyDelete
  10. धुंध से परे स्पष्ट दीखता प्रेम का आलोक।

    ReplyDelete
  11. प्रेम केवल समर्पण देखता है...विजय जी...जहां देह अद्रश्य हो जाती है और रह जाता है केवल प्रेम......


    सुंदर भावपूर्ण रचना के लियें ...
    आपको बधाई...

    ReplyDelete
  12. in anubhutiyon me sab kuchh thahar sa jaata hai....bas

    ReplyDelete
  13. jaha itana pyar ho vaha koi bhi fasla ho kaise sakta hai?? khoobsurat rachana..

    ReplyDelete