Wednesday, April 13, 2011

बीती बातें.........!!!


दिल बीती बातें याद करता रहा ,
यादों का चिराग रातभर जलता रहा ;
नज़म का एक एक अल्फाज़ चुभता रहा,
दिल बीती बातें याद करता रहा.

जाने किसके इन्तेजार मे,
शब्बा ऐ सफर कटता रहा;
जो गीत तुमने छेड़े थे,
रात भर मैं वह गुनगुनाता रहा.
दिल बीती बातें याद करता रहा.

शमा
पिघलती ही रही थी,
और दूर कोई आवाज
था दे रहा;
जुंबा जो न कह पा रही थी,
अश्क एक एक दास्तां कहता रहा.
दिल बीती बातें याद करता रहा.

यादें पुरानी आती ही रही,
दिल धीमे धीमे दस्तक देते रहा;
चिंगारियां भड़कती ही रही,
टूटे हुए सपनो से कोई पुकारता रहा.
दिल बीती बातें याद करता रहा.

दिल बीती बातें याद करता रहा,
यादों का चिराग रातभर जलता रहा;
नज़म का एक एक अल्फाज़ चुभता रहा.
दिल बीती बातें याद करता रहा.


22 comments:

  1. ये बीती बातें ही कभी कभी जीने का सहारा होती हैं वरना इस दुनिया मे और रखा क्या है……………अपने जज़्बातो और अहसासों को बेहद संजीदगी से पिरोया है…………बीती बातो मे भी ज़िन्दगी मिल जाती है कभी कभी।

    ReplyDelete
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (14-4-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. यादें पुरानी आती ही रही,
    दिल धीमे धीमे दस्तक देते रहा;
    चिंगारियां भड़कती ही रही,
    टूटे हुए सपनो से कोई पुकारता रहा.
    दिल बीती बातें याद करता रहा.
    in beeti banton se hi to reeta man bhar jata hai...

    ReplyDelete
  4. गुजरे अनोखे कल यही तो वो धरोहर है हमारे दिल के जो अब तक जिंदा रखे है...बहुत सुंदर....अहसासपूर्ण।

    ReplyDelete
  5. Kya kahne! Aap jab likhte hain,to mujh jaisee ko nishabd kar dete hain!

    ReplyDelete
  6. Amazingly beautiful..cnt find any other appropriate term to appraise dis lovely piece of poetry :)

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरत भावपूर्ण रचना ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. बीती बातें रह रह आतीं,
    सूनी रातें खूब जगातीं।

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया सर!

    सादर

    ReplyDelete
  10. ये बीती बातें ही तो जीवन की एक धरोहर होती हैं जिन्हें हम फुरसत में निकल कर देखा करते हैं.
    बहुत सुंदर लिखा.

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर....अहसासपूर्ण।

    ReplyDelete
  12. कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    ReplyDelete
  13. एक एक पंक्ति अपने भाव की साक्षी है..
    सुन्दर और यथार्थ रचना..!!

    ReplyDelete
  14. कभी कभी बहका जाती हैं, कभी कभी महका जाती हैं... यादें...

    ReplyDelete
  15. वंदना जी की टिपण्णी से मैं पूर्ण सहमत हूँ. बहुत ही अच्छी रचना.

    ReplyDelete
  16. बीती बातें ही कभी कभी जीने का सहारा होती हैं, बहुत सुंदर....अहसासपूर्ण रचना.

    ReplyDelete
  17. बातें बीत जाने पर ही अकसर याद आया करती हैं......बहुत सुन्दर लिखा है विजय जी....

    ReplyDelete
  18. जब दिल बीती बात को याद करता है तो नज़्म यूँ ही चुभता है...सुन्दर शब्द दिया है ..दिल तक उतरती हुई ..बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  19. achchhi rachna aur bhaav poorn abhivyakti ke liye badhaai.
    - vijay tiwari "Kislay"

    ReplyDelete