Wednesday, February 11, 2009

सरहद


सरहदे जब भी बनी ,
देश बेगाने हो गये
और इंसान पराये हो गये !!!

हमने भी एक सरहद बनायी है ;
एक ही जमीन को
कुछ अनचाहे हिस्सों में बांटा है ;

उस तरफ कुछ मेरी तरह ही ;
दिखने वाले लोग रहते है ;
इस तरफ के बन्दे भी कुछ ;
मेरी तरह की बोली बोलते है ;

फिर ये सरहदें क्यों और कैसी ..
जब से हम अलग हुए ,
तब से मैं ...इंसान की तलाश में ;
हर जगह अपने आप को ढूँढता हूँ

कभी इस तरफ के बन्दे जोश दिखाते है
कभी उस तरफ से नफरत की आग आती है
कभी हम मस्जिद तोड़ते है
कभी वो मन्दिर जलाते है ...

देश क्या अलग हुए .
धर्म अंधा हो गया
और खुदा और ईश्वर को अलग कर दिया

सुना है कि ;
जब सियासतदार पास नहीं होते है
तो ;
दोनो तरफ के जवान पास बैठकर
अपने बीबी -बच्चो की बातें करते है
और साथ में खाना खातें है

मैं सोचता हूँ
अगर सियासतदारों ने ऐसे फैसलें न किये होतें
तो आज हम ईद -दिवाली साथ मनाते होतें !!!!

16 comments:

  1. बहुत अच्छी कविता है, आपने तितलियों के लिए कुछ पूछा था, उसके लिए आपने आगे पत्राचार नहीं किया, ख़फ़ा हो गये क्या?

    ---
    चाँद, बादल और शामग़ज़लों के खिलते गुलाब

    ReplyDelete
  2. Hi Vijay,

    Asusual your word depict what is there in the heart and mind of stupid common man!!

    ReplyDelete
  3. विजय जी आप की रचना पढ़ कर निदा फाजली साहेब की लिखी ग़ज़ल..."इंसान परेशां यहाँ भी है वहां भी...." याद आ गई....ये ग़ज़ल मैंने पुणे की प्रदर्शनी के दौरान पढ़ी थी तब से अब तक जेहन में है.......आप का कहना सच है...दुनिया में सब इंसान एक से ही होते हैं सियासतदां और सरहदें उन्हें अलग कर देते हैं...सच्ची बात लिखी है अपनी रचना में...

    नीरज

    ReplyDelete
  4. सुंदर भाव को लेकर, सुंदर शब्दों से, एक सुंदर सी रचना रच दी आपने। दिल खुश हो गया। पर ये जज्बात हर कोई क्यों नही समझता?

    ReplyDelete
  5. beautifully expressed....
    सरहदें इश्क़ की न ठहराएँ
    इश्क़ से काइनात हारी है ....

    Regards

    ReplyDelete
  6. दोनों तरफ रहते इन्‍सान है

    फिर भी इंसान ही परेशान है
    खुदा और ईश्‍वर को देख लो

    कर रहा खूब ही परेशान है।

    ReplyDelete
  7. BAHOT HI BADHIYA BHAV,BEHAD SANJIDAGI SE LIKHI HUI SAHI KAHA NEERAJ JI NE KE APKO PADH KE NIDA FAZALI SAHAB KI YAAD AAGAI... BAHOT KHUB LIKHA HAI LAST KI CHAAR LINE JIWANT KAR GAI HAI PURI KAVITA KO BAHOT BADHIA DHERO BADHAI KUBUL KAREN...


    ARSH

    ReplyDelete
  8. सरहदों के बटने से दिल में पड़े दरारों का बहुत सुंदर चित्रण !!!

    ReplyDelete
  9. सुना है कि ;
    जब सियासतदार पास नहीं होते है
    तो ;
    दोनो तरफ के जवान पास बैठकर
    अपने बीबी -बच्चो की बातें करते है
    और साथ में खाना खातें है

    सही कहा आपने विजय जी ..

    ReplyDelete
  10. सरहदें इश्क़ की न ठहराएँ
    इश्क़ से काइनात हारी है ...
    khoob kaha.....

    ReplyDelete
  11. bahut sundar dhang se bhavon ko ukera hai..........sachchyi bhi yahi hai ...........bas siyasatdaron ke changul mein fanse hum bant rahe hain
    baki alag to kuch bhi nhi hai.........bahut khoob.

    ReplyDelete
  12. आपके samvedansheelta को naman है..बहुत ही सही कहा आपने.....काश सब ऐसा सोचते.

    ReplyDelete
  13. जब से हम अलग हुए ,
    तब से मैं ...इंसान की तलाश में ;
    हर जगह अपने आप को ढूँढता हूँ
    .......
    bahut hi achhi

    ReplyDelete
  14. सुंदर भाव, शब्दों का सुंदर चयन और सुंदर शैली का सुंदर समन्वय! कविता बहुत अच्छी लगी।
    महावीर शर्मा

    ReplyDelete
  15. विजय जी,

    बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति है. शब्दओं के जाल में बांध लेते है आप. वैसे
    " सुना है कि ;
    जब सियासतदार पास नहीं होते है
    तो ;
    दोनो तरफ के जवान पास बैठकर
    अपने बीबी -बच्चो की बातें करते है
    और साथ में खाना खातें है "

    इन पंक्तियों के लिये मुझे यही कहना है कि कुछ कुछ 8PM व्हिस्की की याद भी दिलाती है.


    मुकेश कुमार तिवारी

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छी कविता है..यूँ ही लिखते रहिये...आभार.

    ReplyDelete