Monday, March 9, 2009

नज़्म


बड़ी देर हो गई है ,
कागज़ हाथ में लिए हुए !

सोच रहा हूँ ,
कि कोई नज़्म लिखूं !

पर शब्द कहीं खो गए है ,
जज्बात कहीं उलझ गए है ,
हाथों की उंगलियाँ हार सी गई है ;

क्या लिखु .... कैसे लिखु ...

सोचता हूँ ,
या तो ;
सिर्फ “खुदा” लिख दूं !
या फिर ;
सिर्फ “मोहब्बत” लिख दूं !

इन दोनों से बेहतर भला
कोई और नज़्म क्या होंगी...!!!

27 comments:

  1. वाह जी वाह क्या बात कही है छोटी मगर घायल कर देने वाली नज्म... मेरी मानो तो मोहबब्ते खुदा लिख दो आप....
    बहोत खूब लिखा है आपने ... होली की भी ढेरो बधाई आपको...

    अर्श

    ReplyDelete
  2. very short... but very meaningful...

    ReplyDelete
  3. कई बार एक शब्द ही काफी होता है अपनी भावनाएं दर्शाने को.
    सुन्दर!

    ReplyDelete
  4. सोचता हूँ ,
    या तो ;
    सिर्फ “खुदा” लिख दूं !
    या फिर ;
    सिर्फ “मोहब्बत” लिख दूं !

    बहुत बढ़िया कहा सुन्दर होली की बधाई बहुत बहुत

    ReplyDelete
  5. बहुत दिनों बाद अपनी असली रंग में लौटे हैं आप....अच्छी नज़्म...बधाई.
    नीरज

    ReplyDelete
  6. चंद लफ़्जों में बहुत कुछ कह गई आपकी ये रचना।
    सोचता हूँ ,
    या तो ;
    सिर्फ “खुदा” लिख दूं !
    या फिर ;
    सिर्फ “मोहब्बत” लिख दूं !

    वाह।

    ReplyDelete
  7. सोचता हूँ ,
    या तो ;
    सिर्फ “खुदा” लिख दूं !
    या फिर ;
    सिर्फ “मोहब्बत” लिख दूं !

    इन दोनों से बेहतर भला
    कोई और नज़्म क्या होंगी...!!!

    ab dheere dheere karke aap apne rang me waapas aa rahe hain,,,
    holi mubaarak,,,,

    muflis ji bhi saath hi baithe hain,

    dono ke phone par ek saath sms aayaa ,,,,maine dekhaa aapka thaa,,,
    muflis ji jeb se phone nikaalne lage to maine kahaa,,,apne vijay ji kaa sms hi hogaa,,,,
    main ekdam sahi tha,,,,,
    ab muflis ji ke comment ke liye main band kartaa hoon,,,,ek baar fir badhaai,,,,,,

    ReplyDelete
  8. सोचता हूँ ,
    या तो ;
    सिर्फ “खुदा” लिख दूं !
    या फिर ;
    सिर्फ “मोहब्बत” लिख दूं !

    इन दोनों से बेहतर भला
    कोई और नज़्म क्या होंगी...!!!

    ab dheere dheere karke aap apne rang me waapas aa rahe hain,,,
    holi mubaarak,,,,

    manu ji bhi saath hi baithe hain,

    dono ke phone par ek saath sms aayaa ,,,,maine dekhaa aapka thaa,,,
    manu ji jeb se phone nikaalne lage to maine kahaa,,,apne vijay ji kaa sms hi hogaa,,,,
    main ekdam sahi tha,,,,,

    ab manu aur muflis ki taraf se badhaai,,,,,,

    ---MUFLIS---

    ReplyDelete
  9. Vijay ji...aapne mujhe apnee nazm ke baareme ittelaa dee, iske liye tahe dilse shukr guzaar hun...
    Nazm ke baareme kya likhun, mere paas shabdon kee hameshaa qillat rehtee hai...aap pratibhawaan hain...behad achha abhivyakt kar sakte hain...yahee har baar likh detee hun !

    ReplyDelete
  10. mohabbat hi khuda hai aur khuda hi mohabbat hai......ye aap jante hain to kuch bhi likhiye .............dil se nikli baat dil tak phunch hi jayegi.

    ReplyDelete
  11. vijay ji,
    mera blog aapka intzaar kar raha hai kafi din ho gaye.
    HAPPY HOLI TO U AND UR FAMILY

    ReplyDelete
  12. Vijay bhai

    Achhee kavita likhi hai.

    Badhaai.

    Tejedra Sharma

    ReplyDelete
  13. Waah ! Itne sankshep me kitni sundar baat kah di aapne....

    Gazal yaad aa gayi-

    koun kahta hai muhhabat ki juban hoti hai,
    ye haqeeqat to nigahon se bayan hoti hai...

    Holi ki bahut bahut shubhkaamnayen.

    ReplyDelete
  14. रंगों के त्योहार होली पर आपको एवं आपके समस्त परिवार को हार्दिक शुभकामनाएँ

    ---
    चाँद, बादल और शाम
    गुलाबी कोंपलें

    ReplyDelete
  15. विजय जी ,अब जाकर आपकी नज़्म पढने का मौका मिला .अच्छी नज़्म है .गुलजार जी की भी एक ऐसी ही नज़्म है .बधाई
    होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  16. विजय जी
    होली के अवसर पर, इतनी संवेदन शील रचना, गहन चिंतन के साथ, बहूत सुन्दर अभिव्यक्ति
    आपको और आपके परिवार को होली की शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर ... होली की ढेरो शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  18. Vijayji...mere blogpe zaroor jayen....
    Kuchh mahatvpoorn sandesh post karne pade hain....intezaar rahegaa...aur besabreese...post padhenge to pata chalega...

    ReplyDelete
  19. लिखो खुदा या

    लिखो मोहब्‍बत

    लिखो अवश्‍य

    चंद विचार

    मानस और

    मनकी मत

    करो बंद

    किवाड़।

    ReplyDelete
  20. आपको तथा आपके पुरे परिवार को मेरे तरफ से रंगीन होली की ढेरो बधईयाँ और शुभकामनाएं..
    regards

    ReplyDelete
  21. "शब्द कही खो गये हैं ,
    जज़्बात कही उलझ गये हैं
    हाथों की उंगलियाँ हार-सी गयी हैं..."

    वाह ! वाह !!
    खुदा और मुहोब्बत के बीच रिश्ता बनाये रखने का
    एक खूबसूरत प्रयास ........

    पूर्ण रूप से समर्पण भाव , सही सोच , और विचारों की तन्मयता
    बहुत ही भावनात्मक कविता ....

    रचनात्मकता के विकास और गुणवत्ता की ओर मुड़ना एक अच्छा क़दम साबित होगा
    बधाई स्वीकारें ..........

    (पहले दी गयी टिप्पणी mei...
    दिल्ली में आदरणीय मनु जी के साथ बैठे हुए
    आपके साथ होली की अठखेलियाँ bhi थीं ....)
    ---मुफलिस---

    ReplyDelete
  22. विजय जी,
    शानदार नज़्म के साथ,,,,होली की मुबारक बाद,,,,,,,,,,,,

    ReplyDelete
  23. होली की हार्दिक शुभकामनाएँ .

    ReplyDelete
  24. vijay bhaaee
    holi mubaarik ho.

    nazm bhee bahut khoob lagee.

    ReplyDelete
  25. सोचता हूँ ,
    या तो ;
    सिर्फ “खुदा” लिख दूं !
    या फिर ;
    सिर्फ “मोहब्बत” लिख दूं !

    इन दोनों से बेहतर भला
    कोई और नज़्म क्या होंगी...!!!
    वाह! लिख़नेवाले! तुमने तो बहोत कुछ लिख़ डाला।

    ReplyDelete