Thursday, March 19, 2009

बर्फ के रिश्ते / FROZEN RELATIONS


अक्सर सोचता हूँ ,
रिश्ते क्यों जम जातें है ;
बर्फ की तरह !!!

एक ऐसी बर्फ ..
जो पिघलने से इनकार कर दे...
एक ऐसी बर्फ ..
जो सोचने पर मजबूर कर दे..
एक ऐसी बर्फ...
जो जीवन को पत्थर बना दे......

इन रिश्तों की उष्णता ,
दर्द की पराकाष्ठा पर पहुँच कर ,
जीवन की आग में जलकर ;
बर्फ बन जाती है ......

और अक्सर हमें शूल की तरह चुभते है
और भीतर ही भीतर जमते जाते है ये रिश्तें..
फिर ; अचानक ही एक दिन ;
हम !
हमारे रिश्तों को देखते है
किसी पाषाण शिला
की तरह बर्फ में जमे हुए......

ये रिश्ते ताकते है ;
हमारी और !
और हमसे पूछते है ,
एक मौन प्रश्न ...
ये जनम क्या यूँ ही बीतेंगा !
हमारी जमी हुई उष्णता कब पिगलेंगी !

हम निशब्द होते है
इन रिश्तों के प्रश्नों पर
और अपनी जीवन को जटिलता पर ....

रिश्तों की बर्फ जमी हुई रहती है ..
और यूँ लगता है जैसे एक एक पल ;
एक एक युग की
उदासी और इन्तजार को प्रदर्शित करता है !!

लेकिन ;
इन रिश्तों की
जमी हुई बर्फ में
ये आंसू कैसे तैरते है .......

23 comments:

  1. I guess this happens with everybody, It is very easy to build new relationships but it is very tough to maintain them.. "Never try to maintain relations in your life, Just try to maintain life in all your relations"

    ReplyDelete
  2. इन रिश्तों की उष्णता ,
    दर्द की पराकाष्ठा पर पहुँच कर ,
    जीवन की आग में जलकर ;
    बर्फ के टुकड़े बन जाते है ...

    " these lines are core feelings of this poetry....i really liked them...."

    Regards

    ReplyDelete
  3. सबसे पहले मुबारक सुशील जी को,
    massege पढ़ते ही हम से पहले कमेंट चिपका दिया,,,

    और दूसरी बधाई विजय जी को,,,,
    क्या शानदार कविता लिखी है,,,मुझे तो शब्द ही नहीं मिल रहे हैं बयान करने के लिए,,,,बाकी रात को वापस आकर दोबारा पढूंगा ठीक से ,,,,,यदि कुछ और अछे शब्द निकले तो फिर कमेंट दूंगा,,,
    वाकई शानदार कमाल्ल्ल..................

    ReplyDelete
  4. ye lo ,
    ham to teesre namber par aa gaye,,,,,
    aapko bhi badhaai ho sema ji,,,,

    ReplyDelete
  5. bahut bdhiya kavita hai aur shushil ji ki bat bhi bahut sahi hai
    "Never try to maintain relations in your life, Just try to maintain life in all your relations"
    jami hui barf ke neeche kahi fir bhi kuch tarlata hoti hai .
    bhut gahara ahsas, bahut sundar.badhai

    ReplyDelete
  6. BAHOT KHUB LIKHA HAI AAPNE... AGAR MUJHE HAK HAI TO AAJ TAK KI JO MAINE PADHI HAI USME BISHISHT HAI YE KAVITA AAPKI...BAHOT HI UMDA LIKHA HAI AAPNE..RISHTE KE BAARE ME .. BADI BADHIYA SANGYA DIYA HAI .. GAJAB TARIKE SE AAPNE PARIBHASHIT KIYA HAI RISHTE KO.. DHERO BADHAAEE SAHIB...


    ARSH

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन रचना! बधाई.

    ReplyDelete
  8. बर्फ को भावों का रूप देकर
    लगता है कि किसी दिन आप
    कविता में जमा दोगे सूप को भी
    फिर करोगे इंतजार पिघलाने के लिए
    उस धूप का, जो बादलों में लुकन छिपी
    रही होगी खेल, बर्फ से भावों का मेल
    बहुत पसंद आया, बाहर तो निकाला
    बर्फ को फ्रिज की जेल से।

    ReplyDelete
  9. जब रिश्तों का संबंध मन से जुडा न होकर भौतिक सुखों तक सीमित होता है तो संबंधो की ऊष्णता समाप्त होने लगती है और धीरे धीरे वह पाषाण हिमखण्ड बन जाते हैं

    सुन्दर रचना पढवाने के लिये आभार

    ReplyDelete
  10. ये रिश्ते ताकते है ;
    हमारी और !
    और हमसे पूछते है ,
    एक मौन प्रश्न ...
    ये जनम क्या यूँ ही बीतेंगा !
    हमारी जमी हुई उष्णता कब पिगलेंगी !

    विजय जी
    रिश्ते तो होते ही ऐसे हैं.....
    कभी गर्म, कबी नर्म, कभी बर्फ की तरह सख्त....
    पर रिश्तों के बिना कोई जीवन भी तो नहीं...
    बहुत सुन्दर है आपकी रचना

    ReplyDelete
  11. इन रिश्तों की उष्णता ,
    दर्द की पराकाष्ठा पर पहुँच कर ,
    जीवन की आग में जलकर ;
    बर्फ के टुकड़े बन जाते है ...

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति... बहुत-बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  12. ये रिश्ते ताकते है ;
    हमारी और !
    और हमसे पूछते है ,
    एक मौन प्रश्न ...
    ये जनम क्या यूँ ही बीतेंगा !
    हमारी जमी हुई उष्णता कब पिगलेंगी !

    बढ़िया लगी यह रचना आपकी ..बहुत सुन्दर भाव हैं इस में . एक कठोर सत्य छिपा है आपकी लिखी इन पंक्तियों में ..

    ReplyDelete
  13. gahre bhav.............sundar prastuti

    ReplyDelete
  14. जो रिश्ते रूहानी होते हैं उन पर कभी बर्फ नहीं जमती...अगर रिश्तों पर बर्फ जमनी शुरू हो तो उसकी पड़ताल करनी चाहिए....तुंरत...फिर कोई रिश्ता अपनी उष्णता नहीं खोयेगा...
    रचना में लिंग भेद कहीं कहीं खटकता है जैसे...
    इन रिश्तों की उष्णता ,
    दर्द की पराकाष्ठा पर पहुँच कर ,
    जीवन की आग में जलकर ;
    बर्फ के टुकड़े बन जाते है

    इसे मेरे ख्याल से यूँ लिखना चाहिए था:

    इन रिश्तों की उष्णता ,
    दर्द की पराकाष्ठा पर पहुँच कर ,
    जीवन की आग में जलकर ;
    बर्फ के टुकड़े बन जाती है
    मैं विशेषग्य नहीं हूँ इसलिए आशा है आप मेरी बात को अन्यथा नहीं लेंगे...
    नीरज

    ReplyDelete
  15. बहुत पसँद आयी आपकी ये कविता भी
    - लावण्या

    ReplyDelete
  16. आदरणीय नीरज जी ,आपने सही मार्गदर्शन दिया है ,

    मैंने उन पंक्तियों को बदलकर कुछ इस तरह लिखा है की ,भाषा भी ठीक हो जाए और भाव भी न बदले ..

    पहले ये इस तरह थी ..

    इन रिश्तों की उष्णता ,
    दर्द की पराकाष्ठा पर पहुँच कर ,
    जीवन की आग में जलकर ;
    बर्फ के टुकड़े बन जाते है

    अब ये इस तरह होंगी ..

    इन रिश्तों की उष्णता ,
    दर्द की पराकाष्ठा पर पहुँच कर ,
    जीवन की आग में जलकर ;
    बर्फ बन जाती है ......

    आपके सुझाव के लिए मैं आपका आभारी हूँ , इसी तरह अपना स्नेह और आशीर्वाद बनाये रखें ...

    आपका
    विजय

    ReplyDelete
  17. कभी कभी सोचता हूँ कि ये रिश्तें इतनी उलझन भरे क्यों होते है। अभी एक रिश्ते की आग से तप कर आ रहा हूँ। समझ नही आता ये सुलझते क्यों नहीं। आपकी रचना पढी तो ये भी यही बात कह रही है। खैर हमेशा की तरह आपने ये भी अच्छा लिखा है।
    ये रिश्ते ताकते है ;
    हमारी और !
    और हमसे पूछते है ,
    एक मौन प्रश्न ...
    ये जनम क्या यूँ ही बीतेंगा !
    हमारी जमी हुई उष्णता कब पिगलेंगी !

    बेहतरीन।

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर रचना ... सही कहा ... रिश्‍तों में बर्फ जम जाते हैं ... पहले थोडे दूर के रिश्‍तों में देखे जाते थे ... अब काफी नजदीक आते जा रहे हैं।

    ReplyDelete
  19. सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  20. रिश्तों की उष्णता बनाए रखने की जरूरत है | प्रेम.सहिष्णुता,सहयोग और आदर जैसी भावनाओं की उष्णता इस बर्फ को जरूर पिघला देगी |

    ReplyDelete
  21. rishtoN ki garimaa ko byaan karne ki achhi koshish ki gyi hai
    bhaav paksh mei aapka nazariya jhalaktaa hai
    aur ye bahut achha lagaa...
    "hum nishabd hote haiN in rishtoN ke prashno par..."
    dar-asl rishtoN ko nibhaane ke liye rishtoN ka mahatva samajhnaa
    bahut zroori hota hai.
    yahaaN kuchh virodhaabhaas jaisa kuchh khataktaa hai...
    ये रिश्ते ताकते है ;
    हमारी और !
    और हमसे पूछते है ,
    एक मौन प्रश्न ...
    ये जनम क्या यूँ ही बीतेंगा !
    हमारी जमी हुई उष्णता कब पिगलेंगी...
    khair kul milaa kar prayaas achha hai...aur Gurujan ke marg-darshan ke baad to nikhaar aaya hi hai.
    badhaaee
    ---MUFLIS---

    ReplyDelete
  22. इन रिश्तों की उष्णता ,
    दर्द की पराकाष्ठा पर पहुँच कर ,
    जीवन की आग में जलकर ;
    बर्फ के टुकड़े बन जाते है

    sach kaha hai, ek waqt par aakar rishte braf ban jate hain
    aur hum khud ko inmein dhoondte hain.
    bahut achi dilko choone wali kavita hai.
    nira

    ReplyDelete
  23. मैं आपकी नई पाठक हूं आपकी ये कविता बहुत अच्छी लगी सचमुच रिश्ते बर्फ की तरह ही होते हैं समयानुसार अपना स्वरूप बदलते रहते हैं कभी पत्थर के समान कठोर कभी बादल के समान तरूणाई लिए तो कभी पानी की तरह निर्मल............

    ReplyDelete