Monday, March 16, 2009

देह


देह के परिभाषा
को सोचता हूँ ;
मैं झुठला दूं !

देह की एक गंध ,
मन के ऊपर छायी हुई है !!

मन के ऊपर परत दर परत
जमती जा रही है ;
देह ….
एक देह ,
फिर एक देह ;
और फिर एक और देह !!!

देह की भाषा ने
मन के मौन को कहीं
जीवित ही म्रत्युदंड दे दिया है !

जीवन के इस दौड़ में ;
देह ही अब बचा रहा है
मन कहीं खो सा गया है !
मन की भाषा ;
अब देह की परिभाषा में
अपना परिचय ढूंढ रही है !!

देह की वासना
सर्वोपरि हो चुकी है
और
अपना अधिकार जमा चुकी है
मानव मन पर !!!

देह की अभिलाषा ,
देह की झूठन ,
देह की तड़प ,
देह की उत्तेजना ,
देह की लालसा ,
देह की बातें ,
देह के दिन और देह की ही रातें !

देह अब अभिशप्त हो चुकी है
इस से दुर्गन्ध आ रही है !
ये सिर्फ अब इंसान की देह बनकर रह गयी है :
मेरा परमात्मा , इसे छोड़कर जा चूका है !!

फिर भी घोर आश्चर्य है !!!
मैं जिंदा हूँ !!!


22 comments:

  1. देह की परिभाषा गजब का चित्रण किया है । बहुत सुन्दर रचना । बधाई

    ReplyDelete
  2. bahot badhiya paribhashit kiya hai aapne deh ko .... bahot khub... deh ko is tarah se bhi dekha jaa sakta hai ye aapne bata diya jo satya hai..


    arsh

    ReplyDelete
  3. जीवन के इस दौड़ में ;
    देह ही अब बचा रहा है
    मन कहीं खो सा गया है !
    मन की भाषा ;
    अब देह की परिभाषा में
    अपना परिचय ढूंढ रही है !!

    बहुत सुन्दर सही बात कही आपने ....अच्छी कविता लगी आपकी यह

    ReplyDelete
  4. देह की सर्वोच्च आकांक्षा ही तो जीवन है,
    बहूत खूबसूरत है आपकी कविता, गहरे एहसास लिए ..............

    ReplyDelete
  5. देह ब्‍लॉग

    और

    मन पोस्‍ट

    हो गया है।

    न देह खोई है

    न मन खोया है

    उसे नया आयाम
    अब मिला है

    नई पहचान

    सच‍ मिली है।


    इंटरनेट परमात्‍मा

    ब्‍लॉग आत्‍मा

    पोस्‍ट मन हो गया
    और टिप्‍पणी देह

    न जाने कहां खो गई।

    ReplyDelete
  6. It couldn't have been better than this to describe "Deh..."

    ReplyDelete
  7. मैसेज आया, मैसेज आया,
    देह की इक परिभाषा लाया,

    देह पे देह का कब्जा देखा,
    मन ढूंढा तो कहीं ना पाया,

    एक अजूबा, बिना आत्मा,
    देह को तेरी ज़िंदा पाया,

    मन को इन्टरनेट से जोड़ा,
    और देह को ब्लॉग बताया

    इन मनमोहक टिप्पणियों में,
    खुद को भी 'अविनाश' सा पाया

    बहुत प्यारी रचना विजय जी,,
    हमें भी लिखने को प्रेरित करती है,,,

    इश्वर करे आप यूं ही लिखते रहे,,,और हम कमेंट देते रहे,,,,,
    हमारी भी कलम आपके प्रताप से कुछ लिख जाती है,,, ,
    हाँ आप के जितना फास्ट नहींलिख पाते,,परंतु आपका आशीर्वाद रहा तो ये हुनर भी आ जायेगा,,,, :::::)))))

    ReplyDelete
  8. aaj tak likhi kavtioon mein sarvsheshtra, jab manu ji, arsh ji aur digambar naswaitna kuch keh chuke hain to merei kya aukaat...

    ...manu ji ki kavit bhi bahut pasand aie. Samajh nahi aaya ki kisko sarvsheshtra kahoon...
    ...dono ko itni acchi kavita share kare hetu dhamyavaad...

    ReplyDelete
  9. jo zinda hai wo deh nhi hai.....satya to wahi hai.......sahi kaha aapne deh ki koi paribhasha nhi kyunki deh ka astitva hi nhi aur jo hai wo hi kah raha hai aur wo hi chirantan satya hai.

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर विजय जी बहुत सशक्त रचना है ,खास तौर से ये लाइने-
    देह की भाषा ने मन के मौन को कंही जीवित ही मृत्युदंड दे दिया है .
    परमात्मा से रहित देह तो जीवित दिखती भर है जीवित होती नहीं है इसीलिए -"देह का सुख क्षणिक है पर प्राण सुख चिरन्तन है .

    ReplyDelete
  11. behad sunder abhivyakti.
    जीवन के इस दौड़ में ;
    देह ही अब बचा रहा है
    मन कहीं खो सा गया है !
    मन की भाषा ;
    अब देह की परिभाषा में
    अपना परिचय ढूंढ रही है !!

    waah

    ReplyDelete
  12. सत्य है गुरुदेव!

    सोचो तो बड़ी चीज़ है तहज़ीब है बदन की
    वरना तो बदन आग बुझाने के लिए हैं!

    ---
    गुलाबी कोंपलें

    ReplyDelete
  13. विजय जी इस रचना को पढ़ कर लगने लगा है की आप अपने रंग में फिर से वापस लौट रहे हैं...अच्छी और सार्थक रचना...

    नीरज

    ReplyDelete
  14. Bahut hi khubsurat bhav..badhai...

    ReplyDelete
  15. देह की वासना
    सर्वोपरि हो चुकी है
    और
    अपना अधिकार जमा चुकी है
    मानव मन पर !!!

    deh aur mn ke paarasparik rishte ko achhe tareeqe se paribhaashit kiya hai...
    aapka rachna-sansaar hai hi aisa..
    bs aap hi kaheen nazareiN hataa lete haiN kabhi-kabhi...
    bahut-bahut badhaaee
    ---MUFLIS---

    ReplyDelete
  16. देह की एक गंध ,
    मन के ऊपर छायी हुई है !!

    बहुत बढ़िया .बधाई .

    ReplyDelete
  17. बहुत सही कहा आपने.....देह यानि इन्द्रियजनित वासनाओं के भूल भुलैया में भटक कर मनुष्य ने स्वयं को अधम कर लिया है.

    सशक्त रचना...

    ReplyDelete
  18. आज क्या बात जिसे देखो वही गहरी गहरी बातें लिख रहा है। सच विजय जी आपके पास भी विषयों की कमी नही। आज देह के भाव कितने सुन्दर शब्दों से लिखा है। दिल खुश हो गया पढकर। आज काफी थक गया था मानसिक रुप से। पर इनको पढकर काफी राहत मिली। सच आप गजब का लिखते है।

    देह अब अभिशप्त हो चुकी है
    इस से दुर्गन्ध आ रही है !
    ये सिर्फ अब इंसान की देह बनकर रह गयी है :
    मेरा परमात्मा , इसे छोड़कर जा चूका है !!

    फिर भी घोर आश्चर्य है !!!
    मैं जिंदा हूँ !!!

    बहुत उम्दा।

    ReplyDelete
  19. bahut achchhe ..sundar bhavon valee kavita...

    ReplyDelete
  20. आप की कविता मेँ गहन अनुभूइयाँ तरलता से बहतीँ हैँ इसी तरह लिखा कीजिये --

    - लावण्या

    ReplyDelete
  21. अब और तुम्हें मैं दूँ क्या ? जीवन की शेष कहानी दूँ ..
    क्या आत्म ज्ञान करके कुंठित , देहातुर , सांसो की क्षुद्र रवानी दूँ ,, बहुत ही वेहतरीन कविता है,,
    सादर
    प्रवीण पथिक
    9971969084

    ReplyDelete