Saturday, December 20, 2008

सफर


मेरे दोस्त , तय करना है ज़िन्दगी का ये सफर
कभी रोकर और कभी हंसकर ;
बनना न कायर तुम इस से डरकर ,
क्योंकि तय करना है , ज़िन्दगी का ये सफर ;

मिलेंगे साथी कई , हर एक मोड़ पर,
परेशान न हो , कभी पाकर तो कभी खोकर ,
पर किसी न किसी को बनाना जरुर हमसफ़र ,
क्योंकि तय करना है , ज़िन्दगी का ये सफर ;

ऐसा भी होता है, ,कभी कभी मेरे दिलबर ,
कि , आता है , रोना टूटी हुई चाहत पर
पर पथिक बढ़ना है आगे ; तुझे सबकुछ भुलाकर
क्योंकि तय करना है , ज़िन्दगी का ये सफर ;

पागल न होना ,कभी हसीन फूलो को पाकर ,
और चलना न कभी कांटो से दामन बचाकर
कभी - कभी सोना भी पड़ता है काँटों की सेज पर
क्योंकि तय करना है , ज़िन्दगी का ये सफर ;

यूँ तो जीने को जीतें है सब पर,
दिखाओ तो कुछ हिस्सा दूसरो के लिए जीकर
पर जियो न ज़िन्दगी , बार बार मरकर
क्योंकि तय करना है , ज़िन्दगी का ये सफर ;

हाँ तुझे ही तय करना है तेरे ज़िन्दगी का सफर ...
इसलिए मुस्कराते हुए तय कर अपनी ज़िन्दगी का सफर ..
कुछ ऐसा कर जा दोस्त , बन जाए तेरा ये एक महान सफर
कि , आने वाले दिनों में लोग कहे ,
क्या शानदार जिया है इसने अपना ये सफर........

15 comments:

  1. बहुत ही सुंदर...प्रेरक रचना...वाह.
    नीरज

    ReplyDelete
  2. विजय जी,बहुत ही बढिया रचना है।जिन्दगी को जीनें का अंदाज बहुत सही लिखा है।बधाई स्वीकारें।


    यूँ तो जीने को जीतें है सब पर,
    दिखाओ तो कुछ हिस्सा दूसरो के लिए जीकर
    पर जियो न ज़िन्दगी , बार बार मरकर
    क्योंकि तय करना है , ज़िन्दगी का ये सफर ;

    ReplyDelete
  3. वाह वाह वाह वाह

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर। जोश भरती, होसंला देती रचना।
    कुछ ऐसा कर जा दोस्त , बन जाए तेरा ये एक महान सफर
    कि , आने वाले दिनों में लोग कहे ,
    क्या शानदार जिया है इसने अपना ये सफर........

    कुछ ऐसी ही सोच रही है हमारी, पर अभी सफर है जारी।

    ReplyDelete
  5. कुछ ऐसा कर जा दोस्त, बन जाये ये तेरा महान सफर ...

    बहुत कुछ कह डाला आपने इन पंक्तियों में ...सचमुच इंसान की प्रवृत्ति ऐसी हो जाये तो क्या कहना...

    ReplyDelete
  6. zindagi agar aise hi ji le har koi to kehna hi kya........bahut achcha tarika hai jeene ka

    ReplyDelete
  7. ज़िन्दगी देखी है हमने तुममे कहीं पनपती हुई पर
    यहाँ तो बहुत से लोग मौत की चाहत में जी जाते हैं

    ReplyDelete
  8. सुन्दर ! प्रेरणादायक कविता !
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  9. आपकी पंक्तियों का सार आपको ही समर्पित -

    मेरे दोस्त तय करना है जिन्दगी का ये सफर,
    बनना न तुम कायर इससे डरकर
    और चलना न कभी काँटों से दामन बचा कर
    क्योंकि तय करना है जिन्दगी का ये सफर.

    ReplyDelete
  10. aap ka andaaz behad hi bhhavpoorna aur dil ko choo lene wala hai!

    ReplyDelete
  11. "...yu to jeene ko jeete haiN sb pr
    dikhaao to dusro ke liye jeekar..."
    bahot hi khoobsurat rachna....
    ek prerna, ek sandesh, ek aahvaan
    Aur ye tabhi sambahv ho paata hai jb koi rachnakaar apni chetna ko vistaar de kar n sirf apne liye shabd kehta hai, balke apne smaaj aur parivesh ko bhi apne krititv mei samet lene ki koshish karta hai.
    Aapne mehnat ki hai...
    meri shubhkaamnaaeiN..
    ---MUFLIS---

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन कविता और जीवन की सही राह दिखाती हुई.
    :)

    ReplyDelete
  13. VIJAY JEE,AAPKEE SASHAKT RACHNA
    PADHKAR MUJJHE MEREE GAZAL KAA
    MATLA YAAD AA GAYAA HAI---
    KAUN AKELA RAH KAR JAG MEIN
    KARTA HAI KUCHH HAASIL JEE
    SAATH NAHIN GAR SANGEE-SAATHEE
    HAR RASTA HAI MUSHKIL JEE
    ACHCHHE RACHNA KE LIYE
    AAPKO BADHAAEE.

    ReplyDelete
  14. bahut khub seek dee hai aapne apne iss nazm ke zariye...bas koi safar iss kadar taiy kar paaye to kya baat hai :)
    dheron daad kabool farmayein janab
    fiza

    ReplyDelete